loading...
Hindi News / राज्य / राजस्थान / राजस्थान: लेबर रूम में पेट पर चढ़कर, चांटे मारकर डिलीवरी करा रहीं नर्सें

राजस्थान: लेबर रूम में पेट पर चढ़कर, चांटे मारकर डिलीवरी करा रहीं नर्सें



जयपुर (आनंद चौधरी/अनुराग बासिड़ा).भारतीय संस्कृति में बच्चे का जन्म उत्सव की तरह मनाया जाता है। उसके आने की खुशी में मंगल गीत गाए जाते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि लेबर रूम में जब जीवन अवतार ले रहा होता है तो उसका स्वागत गालियों से होता है। ऐसी अभद्र भाषा…ऐसा तिरस्कार झेलती हैं महिलाएं जिसकी कल्पना पुरुष कर भी नहीं सकते।

लेबर रूम का सच की पहली कड़ी में आपने पढ़ा कि किस तरह सफाई कर्मचारी ही सरकारी अस्पतालों में प्रसव करवा रहे हैं। आज दूसरी कड़ी में पढ़िए- वो भाषा…जो हमारी महिलाएं लेबर रूम में सुनने को मजबूर होती हैं। जिस समय उन्हें अपनेपन की सबसे ज्यादा जरूरत होती है, उस समय वे गालियां सुन रही होती हैं…जैसे मां बनना जीवन की सबसे बड़ी गलती हो।

भास्कर टीम ने 28 दिन तक 13 जिलों के 98 लेबर रूम्स की पड़ताल की। टीम ने देखा- लेबर रूम्स में जब-जब प्रसूताओं की चीख निकलती है तब-तब उस प्रसूता को नर्सो-डॉक्टर की गालियां सुनने को मिलती हैं। इतना ही नहीं, महिलाओं की चीख को दबाने के लिए नर्से उनके बाल खींचती हैं। चांटे तक मारती हैं…।

लेबर रूम में पेट पर चढ़कर डिलीवरी करा रहीं नर्सें
22 जनवरी का दिन, वक्त रात साढ़े आठ बजे। जगह- भीलवाड़ा का राजकीय चिकित्सालय। तस्वीर लेबर रूम के अंदर की है। दर्द से चीख रही प्रसूता के डिलीवरी के लिए एक नर्स उसके पेट पर चढ़ी हुई है। ताकि दबाव बनाकर प्रसव करा सके। यही तस्वीर सबूत है कि यह नर्स प्रशिक्षित नहीं है।…इस संबंध में भास्कर ने जब स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. नीलम बाफना से बात की तो उन्होंने कहा- कई बार बच्चा फंस जाने पर अनट्रेंड स्टाफ पेट पर जोर लगाकर डिलीवरी की कोशिश करता है जो सही प्रेक्टिस नहीं है। बहुत ज्यादा जोर लगाने से बच्चेदानी फट सकती है या नीचे आ सकती है। आमतौर पर इस तरह की कोशिश वहीं ज्यादा होती है जहां ट्रेंड स्टाफ या उपकरण मौजूद नहीं होते।

स्थान : महाराणा भूपाल अस्पताल, उदयपुर
समय : रात 11.05 मिनट, 24 जनवरी
पड़ी रहने दो इसे, रात 1 बजे अपने आप फट जाएगी सा*
लेबर रूम से अचानक रोना-चीखना बढ गया। तो जवाब में नर्स चिल्लाई : मुझे गुस्सा मत दिलाओ, गुस्सा आ गया तो मार डालूंगी…सा* को। प्रसूता दोनों हाथों से मुंह बंद कर लेती है। पर आंखों से निकल रहे आंसू दर्द नहीं रोक पाते। अब दूसरी टेबल पर प्रसूता चीख रही है। नर्स कहती है – मर जा कहीं जाकर। साथ आई परिजन को डांटते हुए बोली- इसको यहीं पड़े रहने दो, रात एक बजे अपने आप फट जाएगी सा*।

स्थान : महात्मा गांधी अस्पताल, भीलवाड़ा
समय : रात 8:30..। 22 जनवरी
खुद जोर नहीं लगा सकती तो अपने पति को बुला ले
एक नर्स प्रसूता के साथ उसके पेट पर दोनों हाथों से जोर-जोर से धक्का लगा रही थी। हमारी सहयोगी तारा ने जब उसे समझाना चाहा तो बोली – डिलीवरी कैसे करानी है, मुझे मत सिखाओ। 23 जनवरी को हम फिर यहां पहुंचे। एक प्रसूता चीख रही थी तो नर्स बोली – जितना जोर चीखने में लगा रही है उतना बच्चे को धकेलने में लगा। खुद जोर नहीं लगा सकती तो अपने पति को बुला ले, वह आकर जोर लगा देगा।

स्थान : रा. चिकित्सालय, विजयनगर
समय : दोपहर 3 बजे। 27 जनवरी
हर साल आ जाती है 1400 रु. लेने, शर्म तो तुझे आती नहीं
यहां महिला वाॅर्ड मेंएक नंबर बैड पर लेटी प्रसूता ने बताया- मैं लेबर टेबल पर रो रही थी, नर्स ने डांटते हुए कहा- क्योंं पूरे अस्पताल को सिर पर उठा रखा है, तू अकेली तो बच्चा पैदा कर नहीं रही, चुप होजा नहीं तो धक्के मारकर निकाल दूंगी। प्रसूता ने बताया- दूसरी टेबल पर लेटी महिला से तो और भी बुरा बर्ताव हुआ। नर्स ने कहा-हर साल 1400 रु लेने आ जाती है। शर्म तो तुझे आती नहीं। अब क्यों चीख रही है।

भास्कर स्टिंग कोहाईकोर्ट ने लिया रिकॉर्ड पर, आज सुनवाई

जोधपुर.सफाईकर्मियों द्वारा डिलीवरी का भास्कर स्टिंग हाईकोर्ट के संज्ञान में लाया गया। न्यायमित्र राजवेंद्र सारस्वत ने कोर्ट से आग्रह किया, कि इस मामले को बांसवाड़ा में शिशुओं की मौत को लेकर विचाराधीन सॉ मोटो पिटीशन के साथ सुना जाए। कोर्ट ने समाचार को रिकॉर्ड पर ले लिया। जल्दी सुनवाई के प्रार्थना पत्र पर मंगलवार को सुनवाई होगी।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


स्टिंग में बाल व महिला चेतना समिति भीलवाड़ा की अध्यक्ष तारा अहलुवालिया व उनकी सहयोगी अनिता ने लेबर रूम्स की तस्वीरें लीं और नर्सों की बातचीत के वीडियो बनाए।

Check Also

कान खुजलाने एसयूवी की चाबी मांगी, बाथरूम जाने का कह गाड़ी ले भागा

शातिर दिनेश ने शुक्रवार को भी एक बाइक चुराई थी। इसके खिलाफ पूर्व में भी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *