loading...
Hindi News / राज्य / राजस्थान / वरिष्ठ अध्यापक संस्कृत शिक्षा के प्रवेश पत्र जारी

वरिष्ठ अध्यापक संस्कृत शिक्षा के प्रवेश पत्र जारी



आरिफ कुरैशी. अजमेर.राजस्थान लोक सेवा आयोग द्वारा संस्कृत शिक्षा विभाग में वरिष्ठ अध्यापकों के पदों पर भर्ती के लिए 17 फरवरी से ली जाने वाली प्रतियोगी परीक्षा के अभ्यर्थियों के प्रवेश पत्र मंगलवार को वेबसाइट पर जारी कर दिए। परीक्षा 20 फरवरी तक आयोजित होगी।

आयोग सचिव पीसी बेरवाल ने बताया कि इस परीक्षा के प्रवेश-पत्र अपलोड कर दिये गये है। अभ्यर्थी अपना प्रवेश-पत्र आयोग की वेबसाइट https://rpsc.rajasthan.gov.in पर उपलब्ध लिंक पर जाकर आवेदन-पत्र क्रमांक व जन्म दिनांक से डाउनलोड कर सकेंगे। अभ्यर्थी https://sso.rajasthan.gov.in पर लाॅगिन कर तथा रिक्रूटमेंट पोर्टल का चयन कर भी प्रवेश-पत्र डाउनलोड कर सकते है।

दो घंटा पूर्व पहुंचे परीक्षा केंद्र पर

सचिव बेरवाल ने बताया कि अभ्यर्थी संबंधित परीक्षा केन्द्र पर एक फोटो एवं मूल फोटो पहचान-पत्र अवश्य लेकर परीक्षा समय से दो घंटा पूर्व उपस्थित हों। मूल पहचान-पत्र के अभाव में अभ्यर्थी को केन्द्र पर प्रवेश नहीं दिया जाएगा। अभ्यर्थी परीक्षा के लिए जारी आवश्यक अनुदेशों का अवलोकन कर लें। अभ्यर्थी प्रत्येक प्रश्न-पत्र के लिए अलग-अलग प्रवेश-पत्र लेकर परीक्षा केन्द्र पर उपस्थित होंगे। आयोग ने अभ्यर्थियों को यह भी निर्देशित किया है कि सर्दी के मौसम के मद्देनजर गर्म कपड़े एवं शूज़ पहनकर परीक्षा में बैठने के लिए अनुमत किया जाता है।

यह है परीक्षा कार्यक्रम

वरिष्ठ अध्यापक (संस्कृत शिक्षा) प्रतियोगी परीक्षा, 2018 का आयोजन 17 व 19 फरवरी 2019 को सामान्य ज्ञान का प्रश्न पत्र एक सत्र में प्रातः 09ः30 बजे से 11ः30 बजे तक एवं ऐच्छिक विषयों के प्रश्न पत्र 17 व 19 फरवरी 2019 को 02ः30 बजे से सायं 05ः00 बजे तक। 18 व 20 फरवरी 2019 को प्रातः 09ः30 बजे से दोपहर 12ः00 बजे एवं दोपहर 02ः30 बजे से सायं 05ः00 तक दो-दो सत्रों में समस्त संभागीय जिला मुख्यालयों पर किया जा रहा है। परीक्षा के ऐच्छिक विषय सामाजिक विज्ञान, विज्ञान व गणित के लिए सामान्य ज्ञान का प्रश्न पत्र दिनांक 17 फरवरी 2019 को एवं ऐच्छिक विषय संस्कृत, हिन्दी व अंग्रेजी के लिए सामान्य ज्ञान का प्रश्न पत्र 19 फरवरी 2019 को आयोजित किया जाना निश्चित किया गया है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Senior teacher’s entry for Sanskrit education

Check Also

शहीद की पत्नी ने कहा- मैंने उन्हें अंतिम बार छुआ, ताकि कोख में पल रही संतान भी उनके साहस को महसूस कर सके, मैं उसे भी ऐसा ही बनाऊंगी

यह दृश्य देखकर वहां मौजूद हर आंख नम हो उठी। हर माथा गर्व से चौड़ा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *