loading...
Hindi News / राज्य / राजस्थान / अनियंत्रित ट्रक ने पहले कार को टक्कर मारी, फिर एक किमी तक घसीट ले गया

अनियंत्रित ट्रक ने पहले कार को टक्कर मारी, फिर एक किमी तक घसीट ले गया



नागौर.किशनगढ़-हनुमानगढ़ मेगाहाइवे पर नागौर जिले के मौलासर कस्बे में बुधवार सुबह एक अनियंत्रित ट्रक ने एक कार को टक्कर मारी और कार को करीब डेढ़ किमी तक घसीटता चला गया। इसके बाद कस्बे से एक किमी दूर डीडवाना रोड पर जाकर कार ट्रक से अलग हो पाई। इसके बाद दौड़ाते ट्रक को कीचक गांव में पीछा कर रुकवाया गया। सब कुछ इतना आकस्मिक हुआ कि कार चालक के साथ ही वाकये को देखते मौलासर के सैंकड़ों लोगों की सांसें अटक गई। घटना में तीन लोगों के घायल हो गए।

  1. जानकारी के अनुसार मौलासर कस्बे में मेगाहाइवे पर कुचामन की ओर से आ रहे एक ट्रक ने पुलिस थाना चौराहे पर एक ऑल्टोकार को टक्कर मार दी। इसके बाद कार ट्रक के अगले हिस्से में फंस गई और घिसटना शुरू हो गई।

  2. इसी दौरान आगे चल रही एक गधा छकड़ी को टक्कर मार दी। एकाएक हुई दुर्घटना से ट्रकचालक घबरा गया और आबादी क्षेत्र होने के कारण ट्रक को रोकने के बजाय भगाने लगा। इससे मौलासर के सबसे ज्यादा भीड़भाड़ वाले इलाके से होते हुए वह ट्रक दौड़ाने लगा।

  3. बाद में शहर के करीब डेढ़ किमी दूर राजीवगांधी कॉलेज से आगे प्रसारण निगम के जीएसएस के नजदीक पहुंचने पर कार ट्रक से अलग हुई। हालांकि यहां भी लोगों की भीड़ देखकर ड्राइवर ट्रक भगा ले गया और कीचक फांटे पर सडक़ पर रखे बेरियर को तोड़ते हुए आगे बढ़ गया।

  4. आखिर में कीचक गांव के मोड पर एक होटल की ओरट्रक को रोक लिया। इस दौरान पीछा कर वहां पहुंचे लोगों ने चालक व खलासी को भागते दबोच लिया और ट्रक को पत्थर मारकर कांच फोड़ डाले और ड्राइवर-खलासी की धुनाई कर पुलिस थाने में पहुंचाया।

  5. दुर्घटना में कारचालक आलमअली खां, छकड़ी चालक पप्पू गिवारिया, कैलाश गिवारिया, कार मैकेनिक झूमर जांगिड़ आदि घायल हो गए। वहीं माजरे को देखकर एक महिला गीता गिंवारिया बेहोश हो गई। पुलिस ने ट्रक को जब्त कर लिया और चालक-खलासी को हिरासत में ले लिया।

    खबर, फोटो व वीडियो: पवन तिवारी

    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


      कार को यूं घसीटता ले गया बेकाबू ट्रक


      हादसे के बाद घटनास्थल पर भीड़ व क्षतिग्रस्त कार


      ट्रक की टक्कर से क्षतिग्रस्त हो गई कार, बच गई जान

Check Also

शहीद की पत्नी ने कहा- मैंने उन्हें अंतिम बार छुआ, ताकि कोख में पल रही संतान भी उनके साहस को महसूस कर सके, मैं उसे भी ऐसा ही बनाऊंगी

यह दृश्य देखकर वहां मौजूद हर आंख नम हो उठी। हर माथा गर्व से चौड़ा …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *