loading...
Hindi News / राज्य / पंजाब / भारत मेंे खेल जगत में भी राजनीति हावी : मोहिंद्र सिंह

भारत मेंे खेल जगत में भी राजनीति हावी : मोहिंद्र सिंह




भारतीय मूल के अमेरिकी एथलीट मोहिंद्र सिंह (अर्जुन अवार्डी) ने कहा कि भारत में हर मामले में राजनीति हावी है। इससे खेल जगत भी वंचित नहीं है। इसलिए खेलों में देश का स्तर ऊपर उठने का नाम नहीं ले रहा। वे मानते हैं कि पिछले कुछ वर्षों से अवश्य कुछ बदलाव आए हैं पर अभी तक देश का वो लेवल खेलों में नहीं बन पाया है जो बनना चाहिए था। वे इस सबके लिए व्यवस्था को जिम्मेदार मान रहे हैं। वे ये भी मानते हैं कि अब इस व्यवस्था को बदलने का केवल यूथ ही तारणहार बन सकते हैं। इसलिए वे अमेरिका से भारत में युवाओं को प्रेरित करने के मकसद से आए हैं। ट्रिप्पल जंप में अमेरिका के लिए मेडलों की झड़ी लगाने वाले मोहिंद्र सिंह गिल ने मंगलवार को यहां के एसबीएस कैंपस में संवाददाता से बातचीत के दौरान बताया कि हमारे जमाने में खिलाड़ियों को ट्रेन का किराया भी पूरा नहीं मिल पाता था पर अब काफी पुरस्कार राशि मिलने लगी है जो खेलों के लिए अच्छा संकेत हैं। उन्होंने कहा कि मैं यहां रहते हुए एसोसिएशनों की राजनीति का शिकार हुआ था तो अमेरिका में चला गया और अमेरिका के लिए खेलने लगा लेकिन इसके बावजूद मैंने भारत के लिए खेलने के प्रय| किए और कई बार मुझे मौका भी मिला तो कई बार फिर वही राजनीति मुझे प्रतियोगिताओं से दूर करती रही। यही कारण है कि मैंने यहां आकर अर्जुन अवार्ड नहीं लिया जिसके बाद अमेरिका में भारतीय दूतावास में मुझे यह अवार्ड दिया गया। वे कहते हैं कि देश में खेलों सहित तमाम मामलों में सिस्टम राजनीति की कठपुतली बन गए है। इसमें बदलाव केवल युवा वर्ग ही कर सकते हैं। उन्होंने शिक्षकों से भी आह्वान किया कि वे विद्यार्थियों को इस प्रकार से प्रेरित करें कि आने वाले समय में वे बेहतर नागरिक बन सकें। उन्हें 1970 में स्पोर्ट्समैन ऑफ दी इयर रहने पर अर्जुन अवार्ड दिया गया। 1974 में उन्हें महाराजा रणजीत सिंह अवार्ड सहित वह अनेक सम्मान और मेडल अपने नाम कर चुके हैं।।

बोले – युवाओं को प्रेरित करने भारत आया हूं

गिल ने बताया कि उनके खेल जीवन में उन्होंने श्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए 57 फुट 6 इंच का जंप लगाया था जो कीर्तिमान है। उन्होंने कहा कि देश में खेलों को बढ़ावा देने के मकसद से वे युवाओं को शिक्षण संस्थानों में प्रेरित करने आए हैं। इसी से यहां का युवा नशे जैसी बुरी लतों से भी बच सकता है। देश में एथलेटिक्स का स्तर कम होने के पीछे वे नशे को बहुत बड़ा कारण मानते हैं। साथ ही उनका मानना है कि आजकल युवा वर्ग जरूरत से ज्यादा मोबाइल फोन पर व्यस्त हो गया है जिस कारण खेलों में बेहतर परिणाम नहीं आ पा रहे।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Firozpur News – politics dominates in sports in india mohinder singh

Check Also

सुखबीर बादल के समराला दौरे से पहले अकालियों ने कसी कमर

22 फरवरी को अकाली दल के प्रधान सुखबीर बादल के दौरे को लेकर अकाली दल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *