loading...
Hindi News / देश दुनिया / राष्ट्रीय / राज्य में 35 साल बाद बाघ दिखा; शेर, बाघ और तेंदुए की मौजूदगी वाला पहला राज्य बना

राज्य में 35 साल बाद बाघ दिखा; शेर, बाघ और तेंदुए की मौजूदगी वाला पहला राज्य बना



वडोदरा.गुजरात में 35 साल बाद बाघ होने की पुष्टि हुई है। वन विभाग के अनुसार, महिसागर जिले के संतरामपुर के जंगल में यह बाघ देखा गया। इसके दिसंबर 2017 में मध्यप्रदेश के जंगल से यहां पर आने का अनुमान लगाया जा रहा है। राज्य के दूसरे इलाकों में कहीं और बाघ तो नहीं हैं, इसका पता लगाने के लिए एक सर्वे शुरू किया गया है। इसी के साथ गुजरात देश का पहला राज्य बन गया है, जहां के जंगलों में शेर, बाघ और तेंदुआ मौजूद हैं।

शिक्षक महेश महेराव ने 8 फरवरी को गढ़ गांव के रास्ते पर अपने मोबाइल से बाघ की तस्वीर खींची थी। वन विभाग ने इसकी जांच करने के बाद लुणावाड़ा और संतरामपुर के 59 हजार हेक्टेयर इलाके में 200 जवानों के साथ सर्च ऑपरेशन शुरू किया था।

बाघ के पैर के पंजों के निशान मिले
जंगल में पेड़ पर नाखून के निशान, फूट प्रिंट और ड्रॉपिंग मिलने के बाद हैदराबाद, गांधीनगर और देहरादून साइंस लैब की मदद ली गई। संतरामपुर के जंगल में बाघ के पैर के पंजों के निशान मिले। रात को 5 नाइट विजन कैमरा लगाए जाने के बाद बाघ, तेंदुआ और झरख के फुटेज मिले। उप वन संरक्षक आरएम परमार ने कहा कि हम गर्व से कह सकते हैं कि महिसागर जिले में बाघ है। मंगलवार को संतरामपुर के 54 गांवों में सर्वे किया गया।

मध्यप्रदेश से 500 किमी चलकर आने की संभावना

  • बाघ कहां से आया :माना जा रहा है कि बाघ मध्यप्रदेश के रातापानी अभयारण्य से यहां आया है। करीब 500 किमी सफर कर बाघ के संतरामपुर आने की संभावना है।
  • सफर किस तरह से तय किया :अनुमान लगाया जा रहा है कि पूरे रूट पर बाघ नर्मदा नदी के किनारे-किनारे आया और इसके बाद गुजरात में प्रवेश कर संतरामपुर की ओर घुसा।
  • क्या एक ही बाघ है :फिलहाल एक ही बाघ होने के सबूत मिले हैं।
  • बाघ देखने संतरामपुर जा सकते है :नहीं, फिलहाल जंगल में घूमने के लिए प्रतिबंध है।

वनमंत्री ने भी पुष्टि की
वनमंत्री, गणपत वसावा ने बताया कि 7-8 साल की उम्र का एक बाघ महिसागर जिले में दिखा है। उज्जैन से एक बाघ गुम होने की जानकारी मध्यप्रदेश सरकार ने पहले से ही दी है। हमने नेशनल टाइगर कंजर्वेशन अथॉरिटी से इस मामले में मदद मांगी है।

दूसरी ओर गिरनार से 40 किमी चल दरिया किनारे के गांव में पहुंचा शेर

पोरबंदर के गिरनार से शेर करीब 30-40 किमी चलकर दरिया किनारेबसेपोरबंदर जिले के माधवपुर (घेड) तक पहुंच गया। मंगलवार सुबह शेर को देखते ही गांव में अफरातफरी मच गई। इसे देख शेर घबरा गया और दो लोगों पर हमला कर दिया। तीन घंटे तक अफरातफरी मची रही। शेर को पकड़ने के लिए पोरबंदर से 30 कर्मियों का दल गांव पहुंच गया है।

gujrat

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


संतरामपुर इलाके में इस बाघ के पंजें के निशान मिले।

Check Also

भारत में टेक्नोलॉजी यूनिवर्सिटी बनाएंगे 40 सीईओ, 2 हजार करोड़ रु. जुटाने की योजना

चंडीगढ़. भारत की बड़ी कंपनियों के उद्यमी और कारोबारी देश में ही एक टेक्नोलॉजी यूनिवर्सिटी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *