loading...
Hindi News / राज्य / मध्य प्रदेश / यज्ञ करने से स्वाइन फ्लू, डेंगू, के वायरस नष्ट होते हैं

यज्ञ करने से स्वाइन फ्लू, डेंगू, के वायरस नष्ट होते हैं




सैकड़ों श्रद्धालुओं ने कथा सुनी।

ग्राम बोदरली में भागवत कथा के चाैथे दिन महाराज ने कहा-

भास्कर संवाददाता | खकनार

ग्राम बोदरली में श्रीमद् भागवत कथा जारी है। कथा के चौथे दिन पंडित संतोष महाराज ने कहा यज्ञ करने से बीमारियों से बच सकते हैं। उन्होंने कथा के एक प्रसंग में यज्ञ की महिमा बताते हुए कहा पूर्वकाल में ऋषि-मुनि और राजा सहित सभी यज्ञ करते थे। क्योंकि यज्ञ करने से कई फायदे होते हैं। गीता में कहा है कि यज्ञात भक्ति प्रजनयो, प्रज्न्याद अन्न संभव:। अर्थात यज्ञ करने से बारिश होती है, धान उगते हैं और अन्न धान्य के भरोसे जीव जीते हैं। यज्ञ के धुएं से संसर्गजन्य रोग के जंतु, स्वाइन फ्लू, डेंगू, चिकनगुनिया के वायरस नष्ट होते हैं।

महाराजश्री ने कहा यज्ञ में हम गाय का घी, जड़ी-बूटी, हवन सामग्री से आहुति देते हैं। इससे ओजोन नामक वायु निकलती है। इससे तीव्र सूर्य किरणों से पृथ्वी का संरक्षण होता है। ग्लोबल वार्मिंग आज न केवल भारत बल्कि पूरे विश्व के लिए संकट का विषय बन गया है। इसे रोकने के लिए वैज्ञानिकों ने यज्ञ ही बताया है। यज्ञ करने से हम खुद को बीमारियों से बचाते हैं। कारखानों से निकलने वाली दूषित वायु से ओजोन विरल होने लगा है। इसलिए घर-घर यज्ञ करना जरूरी है। एक दिन ऐसा आएगा कि शासन को लोगो से प्रार्थना करनी होगी कि यज्ञ करों। जैसे पर्यावरण को बचाने के लिए अब वृक्ष लगाओं, वृक्ष बढ़ाओं की मुहिम चलाई जा रही है। ऐसे ही भविष्य में शासन को ये भी मुहिम चलाना पड़ेगी कि यज्ञ करों और तापमान वृद्धि, बीमारी से बचों, समय पर वर्षा पाओं। यजमान मधुकर महाजन ने बताया गुरुवार दोपहर 2 बजे ब्रह्मलीन परम पूज्य संत लक्ष्मण चैतन्य बापूजी के शिष्य संत श्री गोपाल चैतन्य बाबाजी का सत्संग होगा।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


Khaknar News – mp news by sacrificing the viruses of swine flu dengue are destroyed

Check Also

रबी उपार्जन पंजीयन की अंतिम तिथि 9 मार्च तक बढ़ी

सीहोर| रबी विपणन में उपज खरीदी के लिए पंजीयन कार्य 21 जनवरी से शुरु हुआ। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *