ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / कला एवं साहित्य

कला एवं साहित्य

कुछ रंग मैंने भरे नही

लेखिका : आशु शर्मा, किताब ए ज़िन्दगी कुछ रंग मैंने भरे नहीं और कोई रंग मुझ पर खिला नहीं मैं यूँ भी चाहता हूँ खैर सबकी मुझे कोई  किसी से गिला नहीं ख़्वाब ताकते रहते हैं मुझको पास आकर कोई मिला नहीं मेरा जख़्म भरता क्यूँ नहीं है जबकि वक़्त …

और पढ़ें

चुनावी दंगल और स्वप्न समीक्षा

लेखिका-शालिनी सिंह एक राजनैतिक स्वप्न ने मन मस्तिष्क में आकर लेना शुरू किया  था और ये स्वप्न दिमाग नहीं दिल देख रहा था। चुनावी हलचल का दौर चल रहा है ,हर दल बड़ी ही शिद्दत से चुनावी दंगल में हाथ आजमा रहा है। सबकी नज़र में एक ही लक्ष्य है  …

और पढ़ें