ब्रेकिंग न्यूज
loading...

कविता

तेरा लाल हूँ इसलिए डरा नहीं हूँ

लेखिका- रश्मि मलिक(मेरठ, उत्तर प्रदेश) माँ देख मैं डट कर खड़ा हूँतेरा लाल हूँ इसलिए डरता नही हूँ।। माँ भगत सिंह की तरह शोला तो नही हूँपर उसका भगत बड़ा हूँ।। माँ देख लोहा तो नही हूँ…पर जिगर खोल दुश्मनो से लड़ा हूँ।। माँ चंद्रशेखर की तरह शिखर पर तो …

और पढ़ें

20 मार्च गौरैया दिवस पर विशेष

शालिनी सिंहएंकर-आकाशवाणी लखनऊ 1- चिड़ियादाना पानी रखि अंगना, मोहारे औ दुआरे पर  आवै दियौ गौरैया अपने मुंडेर औ छज्जन परचिड़िया चहकिहैँ लरिका बहकिहैँ घर घर मागावै दियौ बहुरियन का गऊनई सोनचिरैया पर।। 2- गौरैयाखेला करती थी आंगन-आंगन रूठ गई है,आंगन मिट गए घर से गौरैया दिल से टूट गई हैमनुष्यों …

और पढ़ें

चमकीला साँप

लेखिका-संजना तिवारी साँप !! चमकीले साँप !!!!! मीठे जहर के स्वामी साँप !!! जरा देखो….. मेरे सीने पे लोटते -लोटते कहीं तुम्हारी केंचुली घिस तो नहीं गयी ???? चलो !! तुम्हें किसी चिकत्सक को दिखा आएँ !! के बहुत दिनों से तुमने डंक नहीं मारा ???? फन भी नहीं उठाया …

और पढ़ें