ब्रेकिंग न्यूज
loading...
Hindi News / ताजा समाचार / Haryana Jind bypolls/ हरियाणा में कांग्रेस का चेहरा बनेंगे सुरजेवाला, गुटबाजी खत्म करने के लिए राहुल का फैसला

Haryana Jind bypolls/ हरियाणा में कांग्रेस का चेहरा बनेंगे सुरजेवाला, गुटबाजी खत्म करने के लिए राहुल का फैसला



चंडीगढ़. हरियाणा की भाजपा सरकार को चुनौती देने के लिए कांग्रेस ने नई रणनीति अपनाने का फैसला किया है। Haryana के जींद में विधानसभा उपचुनाव ( Jind Assembly by-elections) होने वाला है। इसके लिए राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने एक चौंकाने वाला फैसला करते हुए पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला (Randeep Singh Surjewala) को मैदान में उतारा है। खास बात ये है कि सुरजेवाला पहले ही हरियाणा (Haryana) के कैथल (Kaithal) से विधायक हैं। सुरजेवाला को राहुल के सबसे करीबी और भरोसेमंद लोगों में से एक माना जाता है।

गुटबाजी खत्म करने की कोशिश
हरियाणा में इसी साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। यहां भाजपा की सरकार है। कांग्रेस यहां दो गुटों में बंटी नजर आती है। एक गुट पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा (Bhupinder Singh Hooda) का है। उन्हें हरियाणा में कांग्रेस का सबसे ताकतवर नेता माना जाता रहा है। हालांकि, हुड्डा को पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर (Ashok Tanwar) से चुनौती मिली और साफ तौर पर दोनों गुटों में टकराव कई मौकों पर देखने को मिला। माना जा रहा है कि इसी गुटबाजी को खत्म करने के लिए राहुल गांधी ने सुरजेवाला को एक चेहरे के तौर पर आगे किया है।

क्या सीएम की रेस में होंगे सुरजेवाला?
कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि कांग्रेस आलाकमान अब हरियाणा में युवा चेहरे को आगे लाना चाहता है। इसी कड़ी में पार्टी ने सुरजेवाला को जींद विधानसभा से चुनाव लड़ाने का फैसला किया है। वो भी तब जबकि वो पहले ही विधायक हैं। माना जा रहा है कि पार्टी गैर जाट वोटों में उनकी लोकप्रियता को परखना चाहती है। ये भी कहा जा रहा है कि सुरजेवाला अगले विधानसभा चुनाव में पार्टी के मुख्यमंत्री पद के दावेदार भी हो सकते हैं। इससे दो फायदे होंगे। एक तो गुटबाजी पर अंकुश लगेगा और दूसरा वो राहुल गांधी के उस प्लान में फिट बैठते हैं जिसके मुताबिक, संगठन में युवाओं को ज्यादा जिम्मेदारी दी जानी है।

क्या होगा जींद में?
आमतौर पर जींद को INLD का मजबूत गढ़ माना जाता है लेकिन दिक्कत तब हुई जब चौटाला परिवार की यह पार्टी खुद ही दो भागों में बंट गई। भाजपा यहां मजबूत है लेकिन सुरजेवाला के मैदान में उतरने से मुकाबला चतुष्कोणीय हो गया है। यहां जाट समुदाय का प्रभुत्व है। अगर यहां कांग्रेस जीत हासिल करती है तो लोकसभा चुनाव के लिए भी गणित कुछ हद तक साफ हो जाएगा। भाजपा ने यहां पूर्व विधायक हरिचंद मिड्ढा के पुत्र कृष्ण मिड्ढा को मैदान में उतारा है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


सुरजेवाला को राहुल के सबसे करीबी और भरोसेमंद लोगों में से एक माना जाता है।- फाइल

Check Also

Holi WhatsApp Status Video /इस होली करें कुछ खास, इन वीडियोज को बनाएं अपना होली वॉट्सऐप स्टेटस

Holi WhatsApp Status Video/ दिल-ओ-दिमाग में मस्ती और उमंग भर देने वाला त्योहार होली (Holi) …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *