Friday , December 6 2019, 8:17 AM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / राज्य / जम्मू-कश्मीर / आतंकवादियों को सुरक्षा देने के लिए संघर्षविराम तोड़ रहा पाकिस्तान: आईजी बीएसएफ

आतंकवादियों को सुरक्षा देने के लिए संघर्षविराम तोड़ रहा पाकिस्तान: आईजी बीएसएफ

श्रीनगर, दो दिसंबर (भाषा) जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ करने वाले आतंकवादियों को सुरक्षा कवर देने के लिए पाकिस्तान नियंत्रण रेखा के पास बार बार संघर्षविराम का उल्लंघन कर रहा है। बीएसएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को कहा। बीएसएफ के महानिरीक्षक अजमल सिंह ने एक समारोह में संवाददाताओं से कहा, “जब भी घुसपैठ होती है तो पाकिस्तान की तरफ से गोलीबारी की घटनाएं भी शुरु हो जाती हैं। इन संघर्षविरामों के उल्लंघन का उद्देश्य आतंकियों को घुसपैठ करने में मदद देना होता है लेकिन हमारी सेनाएं पूरी सतर्कता से सुनिश्चित कर रही हैं कि कोई घुसपैठ न हो।” सिंह ने कहा कि जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के ज्यादातर प्रावधान निरस्त किए जाने के केंद्र सरकार के फैसले और बढ़ती हुई गोलीबारी की घटनाओं में कोई संबंध नहीं है। घुसपैठ काफी हद तक कम हो गई है लेकिन नियंत्रण रेखा के किनारे अभी भी आतंकवादी घुसपैठ की ताक में हैं। उन्होंने कहा,“ हमें नियंत्रण रेखा के पास इन आतंकी अड्डों पर आतंकवादियों की निश्चित संख्या की जानकारी नहीं है। वे घुसपैठ की कोशिश करते रहते हैं।” जम्मू और कश्मीर में सेना की गतिविधियों के बारे में सिंह ने कहा कि चुनावों आदि के समय बलों की तैनाती होती रहती है। कश्मीर में स्थिति सामान्य है। वहां शांति है और किसी भी प्रकार की कोई अप्रिय घटना सामने नहीं आई है। आतंकवादियों द्वारा सैटेलाइट फोन का इस्तेमाल करने के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा, “हमें कोई फर्क नहीं पड़ता। आतंकवादियों द्वारा सैटेलाइट फोन का इस्तेमाल कोई नई बात नहीं है। हमारी सेना उनसे निपटने में सक्षम हैं और यह करने के लिए हम तैयार भी हैं। हमारे पास सैटेलाइट फोन भी हैं और हम उनका इस्तेमाल भी करते हैं। हमारे पास संचार की उनसे उत्तम तकनीक है। भारत, पाकिस्तान की तुलना में तकनीकी रुप से अधिक विकसित है।”

Check Also

पाकिस्तान ने नियंत्रण रेखा पर भारतीय चौकियों, अग्रिम बस्तियों पर की गोलाबारी

जम्मू, 29 नवंबर (भाषा) पाकिस्तानी सेना ने संघर्षविराम का उल्लंघन करते हुए जम्मू-कश्मीर के पुंछ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *