Wednesday , October 16 2019, 6:13 PM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / व्यापार / इन 4 कारणों से शेयर बाजार 500 अंक ढहा

इन 4 कारणों से शेयर बाजार 500 अंक ढहा

मुंबई
सोमवार को 1,000 अंकों से अधिक उछाल के बाद बुधवार को शेयर बाजार में बड़ी गिरावट दर्ज की गई। बीएसई का संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 503.62 अंक (1.29%) लुढ़ककर 38,593.52 पर बंद हुआ। अमेरिका में छाई राजनीतिक अनिश्चितता, भारी बिकवाली तथा एशियाई विकास बैंक (एडीबी) द्वारा एशियाई अर्थव्यवस्था में सुस्ती के संकेत के बाद शेयर बाजार ढह गया। एनएसई का निफ्टी 148.00 अंकों (1.28%) की गिरावट के साथ 11,440.20 पर बंद हुआ।

दिनभर के कारोबार में सेंसेक्स ने 39,087.20 का ऊपरी स्तर तथा 38,510.97 का निचला स्तर छुआ। वहीं, निफ्टी ने 11,564.95 का उच्च स्तर तथा 11,416.10 का निम्न स्तर छुआ।

हम उन बड़े कारकों पर चर्चा करने जा रहे हैं, जिनकी वजह से बाजार में गिरावट को बल मिला।

1. अमेरिका की राजनीति में अनिश्चितता
अमेरिका की राजनीति में अनिश्चितता का असर दुनियाभर के शेयर बाजारों पर देखने को मिला और इससे भारतीय बाजार भी अछूता नहीं रह पाया। अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग की प्रक्रिया शुरू हो गई है। ट्रंप पर आरोप है कि उन्होंने अमेरिका में अगले साल होने वाले राष्ट्रपति चुनाव से पहले यूक्रेन के राष्ट्रपति वलोदीमीर जेलेंस्की पर दबाव बनाया कि वह ट्रंप के डेमोक्रेटिक प्रतिद्वंद्वी जो बिडेन और उनके बेटे के खिलाफ भ्रष्टाचार की जांच शुरू करें। हालांकि, डॉनल्ड ट्रंप ने इन आरोपों से साफ इनकार किया है।

2. मुनाफावसूली
पिछले दो सत्रों में शेयर बाजार में भारी उछाल को निवेशकों ने भुनाया। इन दो सत्रों में सेंसेक्स में लगभग 3,000 अंकों की तेजी आई थी। निफ्टी में भी लगभग 900 अंकों की तेजी दर्ज की गई थी।

3. ट्रेड वॉर खत्म होने की उम्मीदों को झटका
अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने चीन की कारोबारी गतिविधियों की आलोचना की है, जिसके बाद दोनों देशों के बीच ट्रेड डील होने पर आशंका के बादल मंडराने लगे हैं। ट्रंप ने मंगलवार को कहा कि व्यापार वार्ता के दौरान वह ‘बैड डील’ को स्वीकार नहीं करेंगे और पेइचिंग उन वादों को निभाने में नाकाम रहा है, जो उसने विश्व व्यापार संगठन में शामिल होने के दौरान किया था।

4. एडीबी द्वारा सुस्ती के संकेत
एशियाई विकास बैंक ने एशियाई बाजार में भारी सुस्ती का संकेत दिया है, जिसके लिए उसने अमेरिका तथा चीन के बीच ट्रेड वॉर को जिम्मेदार ठहराया है। एडीबी के चीफ इकनॉमिस्ट यासुयूकी सावादा ने एक बयान में कहा, ‘चीन तथा अमेरिका के बीच ट्रेड वॉर साल 2020 में भी कायम रहेगा, जबकि दुनिया की बाकी अर्थव्यवस्थाएं इस दौरान इतनी परेशानियों का सामना कर रही होंगी, जितना कि हम अंदाजा नहीं लगा सकते हैं।’

बीएसई पर महज 6 कंपनियों के शेयर हरे निशान पर बंद हुए, जबकि 24 कंपनियों के शेयर लाल निशान पर बंद हुए, जबकि एनएसई पर 13 कंपनियों के शेयरों में लिवाली तथा 37 कंपनियों के शेयरों में बिकवाली दर्ज की गई।

इन शेयरों में रही तेजी
बीएसई पर पावरग्रिड के शेयर में सर्वाधिक 4.39 फीसदी, टीसीएस में 2.13 फीसदी, एनटीपीसी में 1.74 फीसदी, एचसीएल टेक में 0.73 फीसदी तथा टेक महिंद्रा के शेयर में 0.28 फीसदी की मजबूती दर्ज की गई। एनएसई पर पावरग्रिड के शेयर में सर्वाधिक 3.83 फीसदी, टीसीएस में 1.92 फीसदी, एनटीपीसी में 1.56 फीसदी, आईओसी में 1.23 फीसदी तथा एचसीएल टेक के शेयर में 0.72 फीसदी की तेजी देखी गई।

इन शेयरों में रही गिरावट
बीएसई पर एसबीआई के शेयर में सर्वाधिक 7.37 फीसदी, टाटा मोटर्स में 6 फीसदी, टाटा मोटर्स डीवीआर में 5.84 फीसदी, मारुति में 5.25 फीसदी तथा यस बैंक के शेयर में 4.19 फीसदी की गिरावट देखी गई। एनएसई पर एसबीआई में सर्वाधिक 7.70 फीसदी, टाटा मोटर्स में 5.92 फीसदी, यस बैंक में 5 फीसदी, आयशर मोटर्स में 4.54 फीसदी तथा मारुति के शेयर में 4.41 फीसदी की कमजोरी दर्ज की गई।

Check Also

बैंकिंग शेयरों के निराशाजनक प्रदर्शन से लुढ़का शेयर बाजार, सेंसेक्स 298 अंक फिसला

मुंबई बैंकिंग शेयरों के निराशाजनक प्रदर्शन से गुरुवार को गिरावट के साथ बंद हुआ। बीएसई …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *