Wednesday , September 18 2019, 8:23 AM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / खेल / ओपनिंग प्रॉब्लम: क्या रोहित बनेंगे जवाब?

ओपनिंग प्रॉब्लम: क्या रोहित बनेंगे जवाब?

नई दिल्ली
साउथ अफ्रीका के खिलाफ तीन मैचों की टेस्ट सीरीज के लिए गुरुवार को भारतीय टीम का ऐलान किया गया। चयनकर्ताओं ने फॉर्म से जूझ रहे केएल राहुल को बाहर कर दिया और को बतौर ओपनर नई भूमिका देने का फैसला किया। राहुल ने अपनी पिछली 12 पारियों में एक बार भी 50+ का स्कोर नहीं बनाया था। हाल ही में वेस्ट इंडीज के खिलाफ हुई टेस्ट सीरीज में भी वह बतौर ओपनर अपनी छाप नहीं छोड़ पाए थे। भारत वे दोनों मैच जीतकर आईसीसी टेस्ट चैंपियनशिप में टॉप पर कायम है।

पूर्व कप्तान उन लोगों में शुमार हैं जिन्होंने रोहित से टेस्ट क्रिकेट में पारी की शुरुआत करवाने की पैरवी की थी। रोहित 50 ओवर वर्ल्ड कप में शानदार फॉर्म में थे। उन्होंने उस टूर्नमेंट में पांच शतक लगाए थे। अब ऐसा लग रहा है कि दो अक्टूबर से शुरू हो रही टेस्ट सीरीज में रोहित अब मयंक अग्रवाल के साथ पारी की शुरुआत करेंगे। मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने 15 सदस्यीय टीम की घोषणा करने के मौके पर कहा, ‘हम रोहित शर्मा को टेस्ट में पारी की शुरुआत करने का मौका देना चाहते हैं।’

देखें,

रोहित एकदिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में तीन दोहरे शतक लगाने वाले इकलौते बल्लेबाज हैं। टेस्ट क्रिकेट में उनका बल्लेबाजी औसत करीब 40 का है। 32 वर्षीय रोहित सीमित ओवरों के अपने खेल को टेस्ट में दोहराने में असफल रहे हैं। अब उम्मीद की जा रही है कि पारी की शुरुआत करने की नई जिम्मेदारी 27 टेस्ट खेल चुके रोहित के लिए मददगार साबित हो सकती है।

टीम इंडिया की परेशानी- दुनिया की चोटी की टीम होने के बावजूद भारतीय टीम ओपनिंग कॉम्बिनेशन को लेकर परेशान रही है। साल 2018 से लेकर अभी तक टीम ने टेस्ट क्रिकेट में सात ओपनर्स आजमाए हैं। केएल राहुल, मुरली विजय, शिखर धवन, पृथ्वी साव, पार्थिव पटेल, मयंक अग्रवाल और हनुमा विहारी इस दौरान पारी की शुरुआत कर चुके हैं। राहुल को सबसे ज्यादा- 13 टेस्ट और 23 पारियों का मौका मिला- उन्होंने सबसे ज्यादा रन (491) भी बनाए हैं। लेकिन अगर आप उनकी औसत को देखें तो वह चौथे स्थान पर खिसक जाते हैं।

पढ़ें,

सबसे ऊपर साव (118.50) हैं, फिर अग्रवाल (39.28) और धवन (27.36) का नंबर आता है। साव सस्पेंशन के कारण 15 नवंबर तक प्रतिस्पर्धी क्रिकेट से दूर हैं। और अग्रवाल का टॉप ऑर्डर में खेलना तय लग रहा है। धवन और विजय लगातार असफल रहे हैं इसलिए उनका टीम में जगह बना पाना मुश्किल लग रहा है। अजिंक्य रहाणे और हनुमा विहारी ने वेस्ट इंडीज के खिलाफ टेस्ट सीरीज के दौरान मिडल ऑर्डर में शानदार प्रदर्शन किया, ऐसे में उनके स्थान के साथ किसी तरह की छेड़छाड़ की संभावना नजर नहीं आता।

इस बात का रखें ध्यान
प्रसाद ने गुरुवार को कहा कि वह रोहित से पारी की शुरुआत करवाना चाहते हैं। प्रसाद ने आगे कहा, ‘वह (रोहित) खुद पारी की शुरुआत करने को लेकर इच्छुक हैं और हम भी ऐसा चाहते हैं।’ प्रसाद ने कहा, ‘हम उन्हें ओपनर के तौर पर कुछ मौका देना चाहते हैं और उसके बाद उनके प्रदर्शन के आधार पर हम कोई आकलन करेंगे।’

पढ़ें,

गांगुली रोहित को कैरेबियाई धरती पर खेली गई दो टेस्ट मैचों की सीरीज में मौका देने के पक्ष में थे। यहां तक कि डेक्कन चार्जर्स की टीम में उनके साथी रहे एडम गिलक्रिस्ट ने भी रोहित को टॉप ऑर्डर में मौका दिए जाने की राय का समर्थन किया था। रोहित को इसके साथ ही साउथ अफ्रीका के खिलाफ होने वाले तीन दिवसीय प्रैक्टिस मैच के लिए बोर्ड प्रेजिडेंट इलेवन का कप्तान भी बनाया गया है।

साइट-इफेक्ट
रोहित ने टी20 और 50 ओवर के प्रारूप में बतौर ओपनर अपनी जगह पक्की कर रखी है लेकिन फर्स्ट क्लास क्रिकेट में उन्होंने सिर्फ तीन बार -2009 से 2012- के बीच ही ओपनिंग की है।

फैक्ट
रोहित ने टेस्ट क्रिकेट में कभी पारी की शुरुआत नहीं की। उन्होंने नवंबर 2013 में वेस्ट इंडीज के खिलाफ अपना टेस्ट डेब्यू किया था। हालांकि इस मंच पर वह कुछ बड़ा नहीं कर पाए। 27 मैचों की 47 पारियों में उन्होंने 39.82 के औसत से 1585 रन बनाए हैं। इसमें तीन सेंचुरी शामिल हैं। उनका सर्वोच्च स्कोर 177 का है। साउथ अफ्रीका दौरे पर चार पारियों में सिर्फ 78 रन बनाने के बाद उन्हें ड्रॉप कर दिया गया।

पढ़ें,

साल के अंत में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उन्हें दो टेस्ट मैचों में मौका दिया गया और रोहित ने इन मैचों में उपयोगी प्रदर्शन किया। इस दौरे पर वह एक मैच चोट के कारण और एक अपनी बच्ची के जन्म के कारण नहीं खेल पाए थे लेकिन वेस्ट इंडीज के खिलाफ उन्हें विहारी के लिए जगह छोड़नी पड़ी।

गिल का ध्यान
20 वर्षीय शुभमन गिल को भी गुरुवार को घोषित की गई टीम में जगह मिली है। उन्होंने वेस्ट इंडीज दौरे पर भारत ए के लिए खूब रन बनाए। वह इस सीरीज के दौरान फर्स्ट क्लास क्रिकेट में दोहरा शतक लगाने वाले भारतीय क्रिकेटर बने।

Check Also

केएल राहुल के सामने बड़ी चुनौती, कैसे करेंगे सामना

Share this on WhatsApp पार्था भारती, धर्मशाला कहते हैं खेल व्यक्तित्व निर्माण में महत्त्वपूर्ण भूमिका …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *