Saturday , November 23 2019, 2:32 AM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / व्यापार / जानें, इन्वेस्टमेंट के लिए कैसी है पेंटिंग्स की खूबसूरत दुनिया

जानें, इन्वेस्टमेंट के लिए कैसी है पेंटिंग्स की खूबसूरत दुनिया

सुनील कुमार, नई दिल्ली
अमेरिकी कलाकार एंडी वारहोल ने कहा था, ‘पैसा बनाना कला है।’ हालांकि, इस सिक्के का दूसरा पहलू है कि कला से भी बेशुमार पैसे बनाए जा सकते हैं। पिछले दिनों भारतीय पेंटर वी एस गायतोंडे की एक कलाकृति 26.9 करोड़ रुपये में बिकी। यह भारतीय कलाकारों की पांच सबसे महंगी पेंटिंग में से एक है। इस बेनाम कलाकृति को गायतोंडे ने 1982 में बनाया था। यह सैफरनआर्ट की मॉडर्न इंडिया आर्ट की लाइव सेल में बेची गई।

कारोबारी अनिश्चितता
आमतौर पर पेंटिंग को निवेश करने वाली संपत्ति के बजाय ड्राइंग रूम सजाने वाली कलाकृति के रूप में ज्यादा देखा जाता है। चूंकि, यह प्रॉपर्टी, स्टॉफ या गोल्ड जैसी कमोडिटी नहीं है, इसलिए इसकी कीमत में उतार-चढ़ाव को लेकर भी कोई ठोस अंदाजा नहीं रहता। कई बार लाखों में खरीदी पेंटिंग करोड़ों में बिकती है। हालांकि, इस बात के भी पूरे आसार रहते हैं कि आज करोड़ों में बिकी कलाकृति को कल कोई खरीदार ही न मिले।

एक अनुमान के मुताबिक, दुनियाभर में कई कलाकृतियां ऐसी हैं, जिनकी कीमत 90 प्रतिशत तक घट गई है। इसी कारोबारी अनिश्चितता के चलते अमूमन 20 से 200 प्रतिशत तक रिटर्न ऑन इन्वेस्टमेंट (RoI) देने के बावजूद पेंटिंग कभी इन्वेस्टमेंट ऐसेट्स के तौर पर ठोस पहचान नहीं बना पाई। हालांकि, पिछले कुछ वर्षों से पेंटिंग को लेकर परंपरागत धारणा बदल रही है।

पारदर्शिता की कमी
किसी भी क्षेत्र में निवेश का पहला पड़ाव उसकी जानकारी होना होता है। यह फैक्ट पेटिंग के मामले कुछ ज्यादा ही संजीदा हो जाता है क्योंकि यह बाजार काफी हद तक चंचल है। इसमें मुनाफे की कोई गारंटी नहीं होती है। कलाकृति के खूबसूरत बाजार के साथ सबसे बड़ी दिक्कत है कि इसमें काफी कम पारदर्शिता होती है।

गैलरी मालिक और नीलामी करने वाले 25 प्रतिशत या इससे ज्यादा कमीशन ले लेते हैं। किसी भी कलाकृति की असल कीमत उसकी दुर्लभता में होती है। हालांकि, कला के कद्रदानों को अक्सर नकली पेंटिंग और जालसाजी जैसी परेशानियों से दो-चार होना पड़ता है। उदाहरण के लिए, आप किसी आर्ट गैलरी में जाते हैं। वहां 5 लाख रुपये की किसी पेंटिंग पर आपका दिल आ जाता है, लेकिन उतनी रकम का भुगतान नहीं कर सकते हैं। फिर गैलरी मालिक आपको उसी कलाकार की कलाकृतियों की 5000 रुपये वाला कलेक्शन दिखाते हैं। यह मशीन से बना प्रिंट होता है, जो हूबहू असल पेंटिंग जैसा दिखता है।

Check Also

इन 5 कंपनियों के शेयर दे सकते हैं बंपर मुनाफा

नई दिल्ली बीते 20 सितंबर को कॉरपोरेट टैक्स में कटौती के ऐलान के बाद निफ्टी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *