Friday , November 22 2019, 8:45 PM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / राज्य / झारखंड / झारखंड: तबरेज अंसारी मॉब लिंचिंग मामले में पुलिस ने सभी 11 आरोपियों के खिलाफ हटाई हत्या की धारा

झारखंड: तबरेज अंसारी मॉब लिंचिंग मामले में पुलिस ने सभी 11 आरोपियों के खिलाफ हटाई हत्या की धारा

रांची
झारखंड के में पुलिस ने सभी आरोपियों के खिलाफ हत्या की धारा हटा दी है। ने मामले में दाखिल चार्जशीट में आईपीसी की धारा 302 के बजाय 304 (गैर-इरादतन हत्या) के तहत मुकदमा दर्ज किया है। झारखंड के सरायकेला एसपी ने पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि तबरेज की मौत कार्डिएक अरेस्ट से हुई थी। उधर, कांग्रेस के ने इस मामले में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर हमला बोला है।

बता दें कि 22 वर्षीय तबरेज अंसारी की बाइक चोरी के शक में भीड़ ने इसी साल जून महीने में खंभे से बांधकर पीटा था, जिसके बाद उसकी मौत हो गई थी। पुलिस ने मामले में 11 आरोपियों को गिरफ्तार किया था, जबकि दो पुलिसकर्मी भी सस्पेंड हुए थे। तबरेज के भाई ने झारखंड सरकार से अपील की है कि आरोपियों के खिलाफ हत्या के तहत केस दर्ज किया जाए। उन्होंने कहा, ‘तबरेज को रात भर पीटा गया था और अगले दिन उसकी मौत हो गई थी। एफआईआर में 302 लगाया गया था, जिसे बाद में प्रशासन ने 304 कर दिया है। मेरा कहना है कि 302 के तहत मुकदमा चलाया जाए और आरोपियों को सख्त से सख्त सजा हो।’

दिग्विजय ने साधा निशाना
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने इस मामले में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर निशाना साधा है। उन्होंने तबरेज की खबर को री-ट्वीट करते हुए कहा, ‘जैसा मैंने पहले भी कहा है कि जब अमित शाह सरकार में गृहमंत्री हों तो आप क्या उम्मीद कर सकते हैं? बीजेपी कार्यकर्ताओं और आरोपियों से सहानुभूति रखने वालों को बचाने के लिए अभियोजन और बचाव पक्ष एक साथ काम कर रहे हैं चाहे वे मॉब लिंचर हों या आतंक फैलाने के आरोपी। गुजरात मॉडल ऑफ गर्वनेंस!’ दिग्विजय सिंह ने अपने ट्वीट के जरिए पूर्व मंत्री जयंत सिन्हा के खिलाफ तंज किया, जिन्होंने मॉब लिंचिंग के आरोपियों का माला पहनाकर स्वागत किया था।

घटना का विडियो वायरल हुआ था
तबरेज अंसारी मामले में पुलिस ने मेडिकल रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा है कि अंसारी की मौत कार्डिएक अरेस्ट से हुई थी और यह पूर्व नियोजित हत्या नहीं थी, इसलिए आरोपियों के खिलाफ गैर-इरादतन हत्या का आरोप दर्ज हुआ है।

बता दें कि 22 वर्षीय युवक तबरेज अंसारी की 17 जून को अस्पताल में मौत हो गई थी। उन्हें बाइक चुराने के शक में भीड़ ने सरायकेला के धतकिडीह गांव में बुरी तरह पीटा गया था। यह घटना तब प्रकाश में आई, जब एक विडियो वायरल हुआ जिसमें तबरेज को भीड़ ने खंभे से बांधकर पीटा था और उससे जबरन जय श्रीराम बुलवाया था।

तबरेज की पत्नी ने दर्ज कराई थी एफआईआर
तबरेज अंसारी की पत्नी शाइस्ता परवीन ने सरायकेला पुलिस स्टेशन में प्राथमिकी दर्ज कराई थी, जिसमें उन्होंने कहा कि तबरेज अंसारी जमशेदपुर से बाइक से लौट रहे थे, तभी रास्ते में कुछ लोगों ने उन्हें पकड़ लिया। उन्हें पेड़ से बांधकर बुरी तरह पीटा गया और ‘जय श्रीराम’ बोलने के लिए बाध्य किया गया। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, अंसारी ने पहले अपना नाम ‘सोनू’ बताकर खुद को बचाने की कोशिश की लेकिन उन्हें असली नाम बताने के लिए बाध्य किया गया और फिर भीड़ ने उनसे ‘जय श्रीराम’ बोलने के लिए कहा गया था।

Check Also

झारखंड : भाजपा के वरिष्ठ नेता मुख्यमंत्री के खिलाफ विधानसभा चुनाव लड़ेंगे

जमशेदपुर , 17 नवंबर (भाषा) झारखंड विधानसभा चुनाव के लिए अब तक घोषित 72 उम्मीदवारों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *