Saturday , November 23 2019, 1:42 AM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / देश दुनिया / राष्ट्रीय / …तो समझ लेना PoK का क्या होगा: राजनाथ

…तो समझ लेना PoK का क्या होगा: राजनाथ

जयपुररक्षा मंत्री ने बुधवार को पाकिस्तान को चेतावनी भरे लहजे में आगाह किया कि वह 1971 वाली गलती न करे। उन्होंने कहा कि मैं पाकिस्तान को बार-बार सुझाव दे चुका हूं कि वह 1965 और 1971 वाली गलती ना करे। उन्होंने कहा, ‘1971 के युद्ध में पाकिस्तान के दो टुकड़े हो गए थे और बांग्लादेश के रूप में नया देश सामने आया था। इसलिए 1971 की गलती मत दोहराना वरना पीओके का क्या होगा, अच्छी तरह समझ लेना।’

राजनाथ ने कहा, ‘हम जाति, पंथ और मजहब के आधार पर राजनीति नहीं करते। हम राजनीति करते हैं तो इंसाफ, इंसानियत और मानवता के आधार पर।’ राजनाथ ने पाकिस्तान को आगाह किया कि वह 1971 की गलती को न दोहराए। उन्होंने कहा कि उस युद्ध में पाकिस्तान के दो टुकड़े हो गए और बांग्लादेश के रूप में नया देश सामने आया था। राजनाथ ने कहा, ‘मैंने कहा कि 71 की गलती मत दोहराना वरना पीओके का क्या होगा, अच्छी तरह समझ लेना।’

‘भारत पीओके के वजूद को नहीं मानता’
उन्होंने कहा कि भारत पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के वजूद को स्वीकार नहीं करता है, इसीलिए उसने जम्मू-कश्मीर की विधानसभा में पीओके के लिए 24 सीटें खाली रखी हैं। राजनाथ जयपुर के पास धानक्या में पंडित दीनदयाल उपाध्याय जयंती पर एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। राजनाथ ने कहा, ‘अगर पाकिस्तान के वजूद को हम स्वीकार करते हैं तो यह नहीं मान लिया जाना चाहिए कि पीओके के वजूद को भी हम स्वीकार करते हैं। हम उसके वजूद को स्वीकार नहीं करते क्योंकि पाकिस्तान ने उस पर जबरन कब्जा कर रखा है।’

राजनाथ बोले, भारत को तोड़ने की कोशिश कर रहा पाक
रक्षा मंत्री ने पाकिस्तान की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘बराबर आतंकवादियों के माध्यम से भारत को अस्थिर करने की, तोड़ने की यह कोशिश करता है।’ बालाकोट हवाई हमले का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि भारत ने कभी पाकिस्तान की संप्रभुता को चुनौती नहीं दी। सीआरपीएफ जवानों पर हमले का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के आतंकवादियों ने आकर हमारे सीआरपीएफ के जवानों की हत्या की थी तो हमें आतंकवादियों के ठिकाने पर हमला करना ही था।

‘हमने अभी तक सावधानी बरती है, आगे का पता नहीं’
हमने पाकिस्तान पर हमला नहीं किया, बालाकोट में केवल वहीं हमला किया जहां पाकिस्तानियों को प्रशिक्षण दिया जाता था। हमने पाकिस्तान की सेना पर हमला नहीं किया। उन्होंने कहा कि हम लोगों ने पाकिस्तान की संप्रभुता को कोई चुनौती नहीं दी। इस हद तक हम लोगों ने सावधानी बरती है, लेकिन आगे भी इसी तरह चलता रहा तो कुछ कहा नहीं जा सकता है।

Check Also

अयोध्या: 6 दिसंबर बाकी, जारी रहेगी चौकसी

ढांचा विध्वंस की तारीख तक अयोध्या में सुरक्षा दायरा सख्त रखा जाएगा। साल 1992 में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *