Tuesday , January 21 2020, 10:02 PM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / क्राइम / दिल्ली पुलिस में फर्जी तरीके से ली नौकरी, 10 साल करते रहे!

दिल्ली पुलिस में फर्जी तरीके से ली नौकरी, 10 साल करते रहे!

Ravi.Dwivedi@timesgroup.com

में फर्जी दस्तावेज दिखाकर नौकरी हासिल करने और 10 साल तक नौकरी करते रहने का एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। जब महकमे को आरोपियों के बारे में पता चला तो संबंधित जिलों में जहां जहां आरोपियों की पोस्टिंग थी, एफआईआर दर्ज करवाई गई। पुलिस के मुताबिक, सोमवार को अशोक विहार में दो पुलिसकर्मियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई, जिनके बारे में पुलिस की इस्टेबलिशमेंट यूनिट ने शिकायत दी थी। इसमें कहा गया था कि आरोपियों ने फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस दिखाकर नौकरी हासिल की। क्राइम ब्रांच की यूनिट ने लंबी जांच की थी, जिसमें यह खुलासा हुआ।
पुलिस सूत्रों के मुताबिक, अभी 8-10 सिपाहियों के ऐसा करने की जानकारी मिली है। हैरानी की बात है कि सभी डॉक्यूमेंट्स मथुरा से बनवाए गए थे। यह पुलिसकर्मी अलग अलग जिलों व यूनिटों में बतौर ड्राइवर पोस्टेड हैं। जब इनकी हुई थी, तो पुलिस ने मथुरा में अथॉरिटी से पूछा भी था। उन्होंने बताया कि 2007 में सिपाहियों की भर्ती निकली थी, जिसमें ड्राइवरों के लिए पोस्ट थी। जिन सिपाहियों की भर्ती की गई, उनके डॉक्यूमेंट लिए गए और सरकारी नौकरी के नियमों के अनुसार, डॉक्यूमेंट वेरिफाई भी करवाए गए थे। ड्राइविंग लाइसेंस मथुरा से बने थे, तो पुलिस ने मथुरा अथॉरिटी को लेटर लिखकर डॉक्यूमेंट वेरिफाई करने के लिए कहा था। जवाब में पुलिस को खत मिला था, जो कथित तौर पर अथॉरिटी से आया था। उन्होंने डॉक्यूमेंट अप्रूव कर दिए। आरोपियों को नौकरी मिल गई और वे अब तक नौकरी करते रहे। इस बीच क्राइम ब्रांच को फर्जीवाड़े की जानकारी मिली, जिसके बाद एक टीम लगाकर जांच की। जांच में कागजात फर्जी निकले। इसके बाद क्राइम ब्रांच ने इस्टेबलिशमेंट यूनिट को रिपोर्ट दी। उन्होंने उन जिलों को FIR दर्ज करने के लिए कहा, जहां इनकी तैनाती है।
किसी और ने अप्रूव कर दिया? पुलिस के मुताबिक, डॉक्यूमेंट्स को अप्रूवल के लिए भेजा था और अथॉरिटी के नाम पर आए लेटर ने दस्तावेज पुख्ता होने की बात कही। हालांकि जब क्राइम ब्रांच ने जांच में अथॉरिटी से पूछा तो उन्होंने डॉक्यूमेंट को ही फेक बताया। पुलिस ने आशंका जताई कि पहला वाला लेटर अथॉरिटी तक पहुंचा ही नहीं होगा और फर्जी दस्तावेज बनाने वाले गिरोह ने ‘सेटिंग’ से पुलिस के अप्रूवल वाले लेटर को हथियाया और फिर उसका जवाब बना दिया।
इस बारे में जांच करने वाले डीसीपी क्राइम जॉय टिर्की को कई बार फोन करके संपर्क किया गया, पर उनसे बात नहीं हो सकी।

Check Also

पेटीएम केवाईसी अपडेट करने का मेसेज भेज ठगी

लखनऊसाइबर जालसाज ने बाजारखाला निवासी एक शख्स को की करवाने का मेसेज भेजकर एक ऐप …

Leave a Reply