Monday , December 9 2019, 5:59 AM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / राज्य / हरियाणा / पैदल चलने वालों के लिए सुरक्षित होंगे शहर के चौराहे

पैदल चलने वालों के लिए सुरक्षित होंगे शहर के चौराहे

गुड़गांव
शहर के मुख्य चौराहों को अब खासतौर से पैदल चलने वालों के लिए ज्यादा सुरक्षित बनाया जाएगा। इसकी शुरुआत से की गई है। यहां पर पैदल चलने वालों के लिए अलग से लेन बनाई गई है, जिसका ट्रायल शुरू हो चुका है। ट्रायल के दौरान ऑटो, कार और पैदल चलने वालों के लिए अलग-अलग लेन बनाई गई। इतना ही नहीं इन लेन को आकर्षक बनाने के लिए इनमें ट्रैफिक नियमों के साइन भी सड़क पर ही चित्रों के माध्यम से बनाए गए। इससे लोगों ट्रैफिक का पाठ भी पढ़ सकेंगे।

शंकर चौक पर 3 साल में 11 पैदल चलनेवालों की गई जान
दिल्ली-जयपुर हाइवे पर गुड़गांव में शंकर चौक एक ऐसा पॉइंट है, जहां पर 3 साल के दौरान 11 लोग रोड क्रॉस करते वक्त अपनी जान गवां चुके हैं। यहां से उद्योग विहार, साइबर हब, डीएलएफ, हाइवे होते हुए नए और पुराने शहर को ट्रैफिक आता जाता है। यहां पर उद्योग विहार और साइबर हब की ओर से हजारों पैदल यात्री हर दिन सुबह-शाम रोड क्रॉस करते हैं। एक सर्वे के अनुसार 8 से 9 हजार के बीच पैदल यात्री यहां पर रोड क्रॉस करते हैं। जबकि सरहौल बॉर्डर और महरौली की ओर से यहां पर एक लाख 80 हजार के करीब वाहनों का आना जाना है। हाइवे की सर्विस लेन होने के कारण हादसे अधिक होते हैं। इसके अलावा साइबर हब, उद्योग विहार, पैदल यात्रियों के अलावा कैब व ऑटो चालक सहित दूसरे वाहन यहां पर एकत्र होते हैं, जिससे हर वक्त हादसे का अंदेशा बना रहता है।

हरियाणा विजन जीरो के तहत प्रयोग
सड़क हदसों में कमी लाने के लिए सरकार ने प्रदेश के 23 जिलों में यह कार्यक्रम शुरू किया गया है। इसके तहत गुड़गांव के शंकर चौक पर इसका ट्रायल शुरू किया गया है। यहां पर ऑटो के लिए अलग लेन, कार के लिए अलग लेन और इनके बीच में से पैदल चलने वालों के लिए अलग लेन बनाई गई। शनिवार को इसका ट्रायल किया गया। अब दोबारा इस शनिवार को ट्रायल किया जाएगा। इस प्रयोग के सफल रहने पर इसे स्थायी रूप से लागू कर दिया जाएगा। साथ ही अगले हफ्ते बख्तावर चौक पर इसका ट्रायल किया जाएगा।

रोड पर की गई पेंटिंग
इस ट्रायल से पहले शंकर चौक पर खास पेंटिंग की गई। प्रयोग के लिए रोड पर जेब्रा क्रॉसिंग के साथ साथ पैदल चलने वालों के अलावा वाहन चालकों के लिए ट्रैफिक नियम सांकेतिक भाषा में लिखे गए। इसके अलावा यहां पर साइन बोर्ड होंगे। नगारो कंपनी के सीईओ मानस फलुरिया और सारिका पांडा भट्ट ने बताया यह प्रयोग पैदल यात्रियों की सुरक्षा के लिए किया जा रहा है। तीन साल में 11 पैदल यात्रियों की मौत शंकर चौक पर हो चुकी है। हाल में ही दो लोगों की मौत रोड हादसे में हुई। सीएसआर के तहत यह काम करवाया जा रहा है।

हिमांशु गर्ग, डीसीपी ट्रैफिक ने कहा, ‘शंकर चौक पर ट्रायल के तौर पर यह प्रयोग किया गया है। सड़क हादसों में कमी लाने का यह प्रयास है। सफल रहने पर इस चौराहे के अलावा शहर के दूसरे चौराहों पर भी प्रयोग कर इसे लागू किया जाएगा।’

Check Also

सरकारी विभागों पर है 41,700 करोड़ रूपए का बिजली बकाया

नयी दिल्ली, तीन दिसंबर (भाषा) बिजली मंत्री आर के सिंह ने मंगलवार को बताया कि …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *