Tuesday , October 15 2019, 8:46 AM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / क्राइम / फिर बिना लाइसेंस चलने लगे मेडिकल स्टोर

फिर बिना लाइसेंस चलने लगे मेडिकल स्टोर

जीशान, लखनऊ
निजी अस्पतालों में बिना लाइसेंस मेडिकल स्टोर 15 दिन के भीतर फिर खुल गए हैं। एफएसडीए की ड्रग टीम ने दुबग्गा, बंथरा और तेलीबाग में 9 निजी अस्पतालों में बिना लाइसेंस वाले मेडिकल स्टोरों की दवाएं सीज की थीं। एनबीटी पड़ताल में इनमें से कई स्टोरों पर बिना लाइसेंस फिर से दवाओं की बिक्री होती मिली, लेकिन छापा मारने वाले अफसरों को इसकी भनक तक नहीं है।

एफएसडीए की ड्रग टीमों ने 29 और 30 अगस्त को तेलीबाग, बंथरा, दुबग्गा और कानपुर रोड पर कुल 15 अस्पतालों में जांच की थी। इस दौरान 9 अस्पतालों में बिना लाइसेंस मेडिकल स्टोर चलते मिले थे। इसके बाद सिर्फ तेलीबाग स्थित स्पर्श चिल्ड्रन हॉस्पिटल के मेडिकल स्टोर का लाइसेंस बना है, जबकि बाकी जगह पहले की तरह दवा बेचने की कोई अनुमति नहीं है।

नोटिस तक नहीं
नियमों के मुताबिक, बिना लाइसेंस मेडिकल स्टोर चलाने पर एफआईआर होनी चाहिए। इसके बावजूद कार्रवाई तो दूर, ड्रग टीम ने संचालकों को नोटिस तक नहीं भेजा है। यही नहीं, इनके खिलाफ अभी तक मैजिस्ट्रेट को भी कोई रिपोर्ट नहीं भेजी गई है।

50 से अधिक अस्पताल, छापा महज तीन में
दुबग्गा रोड पर 50 से अधिक अस्पताल और ट्रॉमा सेंटर हैं। इनमें गिने-चुनों के पास ही फार्मेसी का लाइसेंस है। इसके बावजूद ड्रग टीम ने यहां महज तीन अस्पतालों में जांच की थी।

9 में 4 जगह बिना लाइसेंस फिर से बिक रहीं दवाएं
न्यू ग्लोबल हॉस्पिटल ऐंड ट्रॉमा सेंटर, दुबग्गा, ग्रेस हॉस्पिटल ऐंड ट्रॉमा सेंटर, दुबग्गा, रिवांता हॉस्पिटल ऐंड ट्रॉमा सेंटर, दुबग्गा और लखनऊ सर्जिकल अस्पताल, बंथरा में बिना लाइसेंस फिर से बिक रहीं दवाएं।

यहां भी सीज की गई थीं दवाएं
लाइफलाइन नर्सिंग होम, कानपुर रोड
साइन हॉस्पिटल, जुनाबगंज
पायनियर हॉस्पिटल,
लखनऊ मॉडर्न हॉस्पिटल

इनमें सिर्फ एक (स्पर्श चिल्ड्रन हॉस्पिटल, तेलीबाग) का लाइसेंस बना हुआ है।

लाइसेंस का मतलब?
राजकीय फार्मासिस्ट महासंघ के अध्यक्ष सुनील यादव के मुताबिक दवाओं के रख रखाव जानकारी सिर्फ फार्मासिस्ट को होती है। कौन सी दवा किस तापमान पर रखनी है यह फार्मासिस्ट ही समझ सकता है। गलत तरह से रखी गई दवा एक्सपायरी डेट के पहले ही खराब हो जाती है। यह दवा खाना नुकसानदायक हो सकता है। फार्मासिस्ट प्रिस्क्रिप्शन चेक करता है। कई दवाएं एक साथ नहीं खाई जा सकती, यह सब फार्मासिस्ट समझाता है। बिना लाइसेंस चल रहे मेडिकल स्टोरों पर फार्मासिस्ट ही नहीं होता है।

Check Also

राम मंदिर का समर्थन करने वाले इस्लामिक स्कॉलर सलमान नदवी के साथ लखनऊ में मारपीट

लखनऊ इस्लामिक स्कॉलर के साथ लखनऊ में मारपीट का मामला सामने आया है। का समर्थन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *