Tuesday , October 15 2019, 5:39 PM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / देश दुनिया / अंतररास्ट्रीय / भारतीय मूल के व्यक्ति ने अमेरिका में जालसाजी का दोष स्वीकार किया

भारतीय मूल के व्यक्ति ने अमेरिका में जालसाजी का दोष स्वीकार किया

न्यू यॉर्कअपने नियोक्ता से 17 लाख डॉलर से अधिक की धोखाधड़ी करने वाले के 66 वर्षीय एक व्यक्ति ने का जुर्म स्वीकार कर लिया है। संघीय जांच ब्यूरो में स्पेशल एजेंट इन चार्ज जेनिफर बून और मैरिलैंड डिस्ट्रिक्ट में यूनाइटेड स्टेट्स अटॉर्नी रॉबर्ट हर ने बताया कि मैरीलैंड के रहने वाले राकेश कौशल ने पिछले हफ्ते अपना जुर्म स्वीकार कर लिया।

कौशल अभी हिरासत में है। उन्हें जनवरी 2020 में सजा सुनाई जाएगी। जालसाजी के मामलों में अधिकतम 20 वर्ष की कैद की सजा हो सकती है। याचिका के मुताबिक निर्माण एवं डिजाइन सेवा देने वाली मैरीलैंड की एक कंपनी ने अगस्त 2015 और जनवरी 2017 के बीच कौशल को नौकरी पर रखा था। ये कंपनी प्रमुख रूप से संघीय सरकारी एजेंसियो के लिए काम करती है।

ईवान विक्टर थ्रान मैरिलैंड में तीन निर्माण कंपनियों का मालिक और अध्यक्ष था। कौशल ने स्वीकार किया कि उसने थ्रान के साथ मिलकर धोखाधड़ी करने की योजना बनाई और तीन कंपनियों की ओर से किए गए काम के फर्जी भुगतान अनुरोध दिए। अभियोजकों का कहना है कि धोखाधड़ी के बाद कौशल ने 6,50,000 डॉलर की रकम अपने निजी बैंक खाते से भारत के एक खाते में भेजी।

Check Also

फ्रांस से अलग न्यू कैलेडोनिया? जनमत संग्रह

पैरिस फ्रांस का प्रशांत द्वीप क्षेत्र न्यू कैलेडोनिया अपनी स्वतंत्रता पर अगले साल एक बार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *