Tuesday , September 17 2019, 3:53 PM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / राज्य / उत्तर प्रदेश / भीमा कोरेगांवः दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रफेसर के घर पर पुणे पुलिस की रेड

भीमा कोरेगांवः दिल्ली यूनिवर्सिटी के प्रफेसर के घर पर पुणे पुलिस की रेड

नोएडा
दिल्ली से सटे यूपी के हाईटेक शहर नोएडा में दिल्ली यूनिवर्सिटी के एक प्रफेसर के घर में मंगलवार सुबह पुणे पुलिस ने छापा मारा। छापेमारी के पीछे प्रमुख वजह 2018 के जनवरी महीने में में हुई जातिगत हिंसा बताई जाती है। पुणे क्राइम ब्रांच पुलिस टीम का नेतृत्व पुणे पुलिस के उपायुक्त बच्चन सिंह कर रहे थे। गौतमबुद्ध नगर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक वैभव कृष्ण ने बताया, ‘पुणे पुलिस ने दिल्ली विश्वविद्यालय के प्रफेसर हनी बाबू एमटी के यहां छापा मारा है। छापा पुणे अपराध शाखा के जांच अधिकारी सहायक पुलिस आयुक्त शिवाजी पवार की देखरेख में की गई।’

एसएसपी गौतमबुद्ध नगर के मुताबिक, ‘दरअसल पुणे पुलिस ने पुणे शहर के थाना विश्रामबाग में 4/2018 को दर्ज मामले में यह छापा मारा है। एफआईआर किसी एलगार परिषद से संबंधित मामले की बताई जाती है। पुणे पुलिस ने गौतमबुद्ध नगर पुलिस से छापे में मदद मांगी थी जो, उसे मुहैया करा दी गई। छापे के दौरान कोई गिरफ्तारी नहीं की गई। पुणे पुलिस ने मौके से कुछ दस्तावेज जब्त किए हैं।’

वैभव कृष्ण के मुताबिक, ‘छापे की पूरी विडियो रिकॉर्डिंग की गई है, ताकि बाद में कहीं कोई समस्या न पैदा हो।’ उल्लेखनीय है कि 31 दिसंबर, 2017 को पुणे में दलितों ने एक समारोह का आयोजन किया था। हर साल यह आयोजन किया जाता है। समारोह में 260 गैर सरकारी संगठन शामिल हुए थे। सम्मेलन में 35 हजार से ज्यादा लोग शामिल हुए थे। सम्मेलन में गुजरात के विधायक जिग्नेश मेवानी सहित राधिका वेमुला, दलित नेता प्रकाश आंबेडकर, भीम आर्मी के विनय रतन सिंह, उमर खालिद भी पहुंचे थे।

पुणे में 31 दिसंबर, 2017 को हुए एलगार परिषद कॉन्क्लेव के अगले दिन हिंसा भड़क गई। हिंसा में एक शख्स की मौत हो गई, जबकि तमाम लोग जख्मी हुए थे। पुणे पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच-पड़ताल शुरू की। तब यह बात सामने आई कि दरअसल उस आयोजन और फिर हिंसा के पीछे प्रतिबंधित संगठन कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया माओवादी का हाथ था। तब से ही पुलिस उस कार्यक्रम में शरीक होने और आयोजन में बढ़चढ़ कर हिस्सेदारी निभाने वालों की तलाश में जुटी है।

Check Also

योगी सरकार को झटका: हाईकोर्ट ने 17 ओबीसी जातियों को एससी में शामिल करने पर लगाई रोक

Share this on WhatsApp प्रयागराज. 17 अति पिछड़ी जातियों को अनुसूचित जाति में शामिल करने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *