Friday , November 22 2019, 1:08 AM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / राज्य / मध्य प्रदेश / मंदसौर और नीमच जिलों में वर्षा प्रभावित 16,000 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया

मंदसौर और नीमच जिलों में वर्षा प्रभावित 16,000 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया

भोपाल, 15 सितम्बर (भाषा) मध्यप्रदेश के मंदसौर और नीमच जिलों में भारी बारिश से आई बाढ़ में फंस 16,000 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। प्रदेश में मानसून के इस सीजन में अब तक सामान्य से 33 प्रतिशत अधिक बारिश दर्ज की गई है। पश्चिम मध्यप्रदेश के एक दूसरे से सटे मंदसौर और नीमच जिलों में पिछले दो दिन से भारी वर्षा से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। भोपाल स्थित मौसम केन्द्र ने बताया कि मध्यप्रदेश में अब तक सामान्य से 33 प्रतिशत अधिक बारिश हो चुकी है। अधिकारियों ने बताया कि मंदसौर के बाढ़ग्रस्त इलाकों से करीब 13,000 से 14,000 लोगों को बचाया गया है, जबकि नीमच में करीब 2,300 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। मंदसौर जिले के पुलिस अधीक्षक हितेश चौधरी ने फोन पर ‘भाषा’ को बताया कि बाढ़ से प्रभावित 100 से 125 गांवों के 13,000 से 14,000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। इन गांवों को पूरी तरह अथवा आंशिक तौर पर खाली कराया गया है। उन्होंने कहा, “हम स्थिति पर कड़ी नजर रख रहे हैं और बचाव कार्य जोरों पर है।’’ मौसम केन्द्र के अनुसार रविवार सुबह तक पिछले 24 घंटे में मंदसौर में 218 मिलीमीटर जबकि नीमच के मनासा कस्बे में 243 मिलीमीटर बारिश हुई है। मंदसौर में इस मानसून सीजन में एक जून से अब तक 1927.8 मिलीमीटर वर्षा हुई है जबकि इस अवधि में जिले में सामान्य तौर पर 742.1 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की जाती है। इसी तरह नीमच में एक जून से अब तक 1569.7 मिमी बारिश दर्ज की गई है, जबकि यहां सामान्य रुप से 706.9 मिमी बारिश होती है। अधिकारी ने बताया कि रविवार सुबह मंदसौर में लोगों बारिश से कुछ राहत मिली है लेकिन नीमच में वर्षा जारी है। गांधी सागर बांध परियोजना के उप मंडल अधिकारी एन पी देव ने रविवार को भाषा को बताया कि बांध के 19 स्लूइस गेट खोले गए हैं और 4 लाख और 93,000 क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। जलाशय का पानी नीचे की ओर बह रहा है और नीमच जिले एवं राजस्थान में प्रवेश कर रहा है। गांधी सागर बांध का बैकवॉटर बढ़ने से नीमच के रामपुरा कस्बे में लगभग 2300 लोगों को बाढ़ के पानी से बाहर निकाल कर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। एक अधिकारी ने बताया कि बचाव दल शनिवार रात से चौकस निगरानी रख रहा है और बाढ़ प्रभावित अनेक लोगों को राहत शिविरों में पहुंचाया गया। मौसम विज्ञानी जीडी मिश्रा ने बताया कि पूर्वी मध्य प्रदेश में मानसून थोड़ा कमजोर हुआ है, लेकिन राज्य के पश्चिमी हिस्से में मानसून सक्रिय है। पश्चिम मध्यप्रदेश के अलीराजपुर, झाबुआ और आसपास के जिलों में सोमवार सुबह तक भारी वर्षा होने की संभावना है। उन्होंने कहा कि अभी मानसून की गतिविधियों में कोई कमी नहीं आई है।

Check Also

राफेल मुद्दे पर राहुल से माफी की मांग करते हुए भाजपा ने किया प्रदर्शन

भोपाल, 16 नवंबर (भाषा) भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने शनिवार को यहां राफेल मामले …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *