Friday , November 15 2019, 5:20 AM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / राज्य / मध्य प्रदेश / मध्य प्रदेश: सफाईकर्मियों ने नहीं की सफाई तो खुद नाले में उतरे मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर

मध्य प्रदेश: सफाईकर्मियों ने नहीं की सफाई तो खुद नाले में उतरे मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर

ग्वालियर
ग्वालियर नगर निगम के अफसरों ने शहर के बिरला नगर इलाके की सफाई नहीं की तो मध्य प्रदेश के खाद्य नागरिक आपूर्ति मंत्री खुद ही नाले में उतर गए। रविवार की सुबह प्रद्युम्न सिंह तोमर कमर तक गंदे पानी से भरे नाले में उतरे और फावड़े से कीचड़ निकाला। काफी देर मंत्री तोमर ने नाली की सफाई की और इसकी भनक लगने के बाद ग्वालियर नगर निगम कमिश्नर संदीप माकिन ने इसके लिए जिम्मेदार इलाके के तीन अधिकारियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया।

सोशल मीडिया पर वायरल हुए इस विडियो में देखा जा सकता है कि इस दौरान मंत्री ने हाथ-पैर में कीचड़ से बचने के लिए सुरक्षा की दृष्टि से कोई दस्ताने भी नहीं पहने थे। इस बारे में मंत्री तोमर ने बताया, ‘बिरला नगर न्यू कॉलोनी की महिलाओं ने मुझसे शिकायत की थी कि नालियों का गंदा पानी घरों में घुस रहा है। जब निगम कर्मचारी सफाई करने नहीं पहुंचे तो रविवार सुबह मैं खुद ही सफाई करने पहुंच गया। इस गंदगी के कारण लोग बीमार हो रहे हैं और मैं लोगों की तकलीफें नहीं देख सकता।’

‘ग्वालियर को दिल्ली जैसा प्रदूषित नहीं होने देंगे’
उन्होंने कहा कि देश की राजधानी दिल्ली बहुत ज्यादा प्रदूषित हो गई है और प्रदूषण के मामले में वह ग्वालियर को दिल्ली नहीं बनने देंगे। जब उनसे पूछा गया कि नगर निगम के अफसरों से सफाई के लिए क्यों नहीं कहा गया, तो उन्होंने कहा कि निगम कर्मचारी काम नहीं करेंगे तो उन्हें सुधारा जाएगा। उन्होंने कहा कि इस बार सफाई में ग्वालियर को अव्वल लाना है। तोमर ने कहा, ‘इसे पब्लिसिटी स्टंट न समझा जाए, क्योकि मैं रोड पर नहीं, बल्कि ऐसे इलाकों में जाकर सफाई कर रहा हूं, जहां पर वास्तव में गंदगी है।’

उल्लेखनीय है कि मंत्री तोमर पिछले पांच दिन से शहर के कई इलाकों में जाकर इसी प्रकार से सफाई कर रहे हैं। शनिवार को ग्वालियर रेलवे स्टेशन के शौचालय में सफाई करने पहुंच गए थे और गंदगी मिलने पर रेलवे अफसरों को जमकर फटकार भी लगाई थी। इसी बीच, नगर निगम ग्वालियर के कमिश्नर संदीप माकिन ने कहा, ‘मंत्री जी को खुद नाली में उतरकर सफाई करनी पड़ी। इसके लिए खेद व्यक्त करता हूं लेकिन उसके बाद तुरंत कार्रवाई की गई और नाली की सफाई कर दी गई है। इसके साथ उस वार्ड के जिम्मेदार क्षेत्राधिकारी राजेश परिहार, सहायक स्वास्थ्य अधिकारी गौरव सेन और वार्ड स्वास्थ्य अधिकारी आकाश करोसिया को निलंबित कर दिया गया है।’

बीजेपी सांसद बोले- नाले में उतरने की बजाय कर्मचारियों से करवाते सफाई
उन्होंने कहा कि शहर की कुछ नालियां और नाले सफाई के लिए रह गए थे लेकिन अब पूरी तरह साफ किया जा रहा है। माकिन ने बताया कि पहले प्रतिदिन 100 टन कचरा शहर से उठता था और अब यह आंकड़ा 600 टन तक पहुंच गया है। वहीं, ग्वालियर के पूर्व महापौर और बीजेपी सांसद विवेक शेजवलकर ने कहा, ‘मंत्री तोमर की भावना की सफाई होनी चाहिए लेकिन नगर निगम के पास पूरा सफाई अमला है और उनसे काम कराना चाहिए, न कि सड़कों पर उतरना चाहिए।’ शेजवलकर ने कहा कि लोगों को प्रेरित करने के लिए अच्छा कदम है लेकिन खुद सफाई करने की बजाय मौके पर ही निगम कर्मचारियों और अफसरों को बुलाकर सफाई करवाना चाहिए।

Check Also

वीएचपी को उम्मीद, श्रीराम जन्मभूमि न्यास के डिजाइन के मुताबिक ही होगा मंदिर निर्माण

इंदौर/अहमदाबाद अयोध्या मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हुए विश्व हिन्दू परिषद …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *