ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / राज्य / महाराष्ट्र / महाराष्ट्र: जल संकट के कारण लातूर में विसर्जित नहीं की गईं गणेश प्रतिमाएं

महाराष्ट्र: जल संकट के कारण लातूर में विसर्जित नहीं की गईं गणेश प्रतिमाएं

लातूर
महाराष्ट्र के लातूर जिले में गंभीर जल संकट के चलते गुरुवार को गणेश भगवान की प्रतिमाएं विसर्जित नहीं की गईं। स्थानीय निकाय अधिकारी और सामाजिक संस्थाओं के स्वयंसेवी शहर में विसर्जन स्थानों पर मुस्तैद थे, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि कोई भी व्यक्ति प्रतिमाओं को उन स्थानों पर विसर्जित नहीं कर सकें जहां आमतौर पर विसर्जन किया जाता था। स्थानीय प्रशासन के मुताबिक, विसर्जित नहीं हुई सभी प्रतिमाओं को एक स्थान पर रखने के लिए नगर निगम द्वारा खास इंतजाम किए गए हैं।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि लातूर में हर साल गणेश प्रतिमाओं के विसर्जन के लिए आमतौर पर इस्तेमाल किये जाने वाले सात स्थानों पर ‘एक बूंद भी पानी’ नहीं है। कलेक्टर जी श्रीकांत ने बताया कि विसर्जन प्रक्रिया से दूर रहने का फैसला जन जागरूकता का है और शहर में गणेश मंडलों की समीक्षा बैठकों के बाद इसे अंतिम रूप दिया गया। उन्होंने कहा,’बड़े मंडल पिछले तीन-चार साल से प्रतिमाओं को दोबारा उपयोग में ला रहे हैं। यह मंडलों का सामूहिक फैसला है ताकि विसर्जन से बचा जा सके और प्रतिमाओं का दोबारा उपयोग किया जाए या उन्हें दान कर दिया जाए।’

नगर निगम ने की रख-रखाव की व्यवस्था
श्रीकांत ने बताया कि लातूर नगर निगम ने प्रतिमाओं को मंदिर में एकत्र कर रखे जाने की व्यवस्था की है। यदि प्रतिमाओं को दोबारा उपयोग में लाया जाता है तो यह जल संकट से पार पाने का सर्वश्रेष्ठ तरीका होगा। लातूर में एक स्थानीय इतिहासकार ने बताया कि एक सदी से भी अधिक समय में यह पहला मौका है जब शहर में गणेश प्रतिमाएं विसर्जित नहीं की गई। अप्रैल से अगस्त 2016 के बीच रेलवे ने ‘जलदूत’ ट्रेन के जरिए लातूर को पेयजल मुहैया कराया था। राज्य सरकार ने तब सांगली जिले के मिराज से मराठवाड़ा के इस सूखा प्रभावित शहर में जलापूर्ति की थी। ट्रेन ने 342 किमी की दूरी तय की थी।

Check Also

ठाणेः रात में साढ़े दस बजे दिया भाषण, रैली में जलाए गए पटाखे, रामदास अठावले के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी

Share this on WhatsApp ठाणे केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ध्वनि प्रदूषण नियमों के उल्लंघन को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *