Friday , November 15 2019, 6:09 AM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / अन्य समाचार / यहां 11 हजार 500 फीट ऊंचाई पर BJP दफ्तर

यहां 11 हजार 500 फीट ऊंचाई पर BJP दफ्तर

लेह
जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 का विशेष दर्जा खत्म होने और लद्दाख के केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद भारतीय जनता पार्टी ने लेह में अपना प्रादेशिक कार्यालय बनाया है। लेह में बनाया गया बीजेपी का यह कार्यालय समुद्र तल से 11 हजार 500 फीट की ऊंचाई पर है। बुधवार को इस खास ऑफिस का उद्घाटन बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह ने किया है। बीजेपी ने लेह के जिस इलाके में अपना ऑफिस बनाया है, ठंड के मौसम में वहां का तापमान शून्य से 15 डिग्री नीचे तक पहुंच जाता है।

गुरुवार को उद्घाटन समारोह के बाद
नवभारत टाइम्स ऑनलाइन से हुई खास बातचीत में बीजेपी महासचिव अरुण सिंह ने बताया कि पार्टी ने लेह-लद्दाख में संगठन विस्तार के लिए अपने इस कार्यालय का उद्घाटन किया है। उन्होंने कहा कि पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की मंशा थी कि देश के हर प्रदेश में राजधानी क्षेत्र में संगठन का अपना कार्यालय स्थापित किया जाए और इसी क्रम में नवगठित केंद्र शासित प्रदेश लेह में इस कार्यालय की स्थापना भी कराई गई।

उद्घाटन के वक्त माइनस 4 डिग्री तापमान
अरुण सिंह ने बताया कि यह कार्यालय प्रादेशिक कार्यालय की तरह काम करेगा और इसमें देश के अन्य हिस्सों में बने बीजेपी कार्यालय की तरह तमाम अत्याधुनिक सुविधाएं मौजूद हैं। अरुण सिंह ने बताया कि लेह में बना बीजेपी का कार्यालय देश में सबसे अधिक ऊंचाई पर बना बीजेपी का ऑफिस है। उन्होंने बताया कि जिस वक्त बुधवार को बीजेपी के इस ऑफिस का उद्घाटन हुआ, उस वक्त लेह का तापमान माइनस 4 डिग्री था। अरुण सिंह ने बताया कि पार्टी के इस कार्यालय में प्रदेश संगठन के लोग मौजूद रहेंगे और पूरे साल यहां से ही लद्दाख में संगठन की गतिविधियों का संचालन होगा।

लद्दाख को बनाया गया है केंद्र शासित प्रदेश
गौरतलब है कि केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा देने के बाद लद्दाख में सरकार ने दो जिलों का गठिन किया है, लेह और करगिल। इनमें से लेह में पाकिस्तान अधिकृत गिलगित-बाल्टिस्तान को शामिल किया गया है। लेह में गिलगित, गिलगित-वजारत, चिल्हास, ट्राइबल टेरिटरी को शामिल किया गया है।

Check Also

राम मंदिर निर्माण को इस ट्रस्‍ट ने पेश किया दावा

विकास पाठक, वाराणसी अयोध्‍या में राम जन्‍मभूमि को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *