Monday , November 18 2019, 6:56 AM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / राज्य / उत्तर प्रदेश / यूपी: चिन्मयानंद केस में एसआईटी ने किया पीड़िता के छात्रावास का निरीक्षण

यूपी: चिन्मयानंद केस में एसआईटी ने किया पीड़िता के छात्रावास का निरीक्षण

शाहजहांपुर (यूपी)
पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद मामले में विशेष जांच दल (एसआईटी) ने मंगलवार को के के कमरे का निरीक्षण किया और साक्ष्य जुटाए। दोपहर को कॉलेज परिसर पहुंची। टीम ने करीब पांच घंटे तक पीड़िता के कमरे का बारीकी से निरीक्षण किया। टीम के साथ फरेंसिक विशेषज्ञ भी मौजूद थे।

स्वामी शुकदेवानंद विधि महाविद्यालय के प्रधानाचार्य संजय बरनवाल ने बताया कि छात्रा छात्रावास के कमरे में अकेली रहती थी। कॉलेज के प्रशासनिक सूत्रों ने बताया कि जांच के दौरान एसआईटी के साथ पीड़िता और उसका परिवार भी मौजूद था। सूत्रों के मुताबिक स्वामी चिन्मयानंद कॉलेज परिसर में बने अपने आवास दिव्य धाम में मंगलवार को मौजूद नहीं थे। पीड़िता जिस कमरे में रहती थी, पुलिस ने उसे सील कर दिया था। एसआईटी ने उसकी सील तोड़ कर मुआयना किया। इस बीच पुलिस सूत्रों ने बताया कि मंगलवार शाम तक भी चिन्मयानंद के खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज नहीं किया गया है। पिछले महीने एक वायरल विडियो के जरिए चिन्मयानंद पर जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाने वाली एलएलएम की छात्रा सोमवार को पहली बार मीडिया के सामने आई। उसने पूर्व केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री पर बलात्कार का भी आरोप लगाते हुए कहा कि वह मामले की जांच कर रही एसआईटी को भी यह बात बता चुकी है। एसआईटी ने गत रविवार को करीब 11 घंटे तक उससे पूछताछ की थी।

युवती के मुताबिक उसने जांच दल को बताया कि स्वामी चिन्मयानंद ने उसका बलात्कार किया और एक वर्ष तक उसका शारीरिक शोषण भी किया है। यह रिपोर्ट दिल्ली के लोधी रोड थाने में जीरो क्राइम नंबर पर दर्ज करके शाहजहांपुर भेज दी गई, मगर स्थानीय पुलिस बलात्कार और शारीरिक शोषण की रिपोर्ट दर्ज नहीं कर रही है। पीड़िता ने कहा कि जांच दल को सारी बातें बताने के बाद भी चिन्मयानंद को गिरफ्तार नहीं किया गया। उसने आरोप लगाया कि इससे पहले जब उसके पिता ने चिन्मयानंद के खिलाफ शारीरिक शोषण के आरोप में मुकदमे की तहरीर दी थी तब मुकदमा दर्ज करना तो दूर, जिलाधिकारी इंद्र विक्रम सिंह ने उसके पिता को धमकी देते हुए चिन्मयानंद के रसूख का हवाला दिया था और बेटी की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराने को कहा था।

छात्रा ने दावा किया कि उसके पास सारे साक्ष्य हैं। सही समय आने पर साक्ष्य (विडियो क्लिप) भी पेश किया जाएगा। उसने कहा कि उसने अपनी और अपने परिवार की सुरक्षा के लिए ही अपना वह विडियो वायरल किया था, जिसमें उसने चिन्मयानंद से जान का खतरा बताया था। स्वामी चिन्मयानंद के अधिवक्ता ओम सिंह की ओर से दर्ज कराए गए पांच करोड़ रुपये की रंगदारी मांगे जाने के मामले में कथित पीड़िता ने कहा कि इसकी जांच होनी चाहिए। चिन्मयानंद ने जो आरोप लगाया है, वह फर्जी है।

एक सवाल के जवाब में छात्रा ने बताया कि उसके साथ दिल्ली के होटल में देखा गया संजय सिंह नामक युवक उसका भाई है। ज्ञातव्य है कि चिन्मयानंद के कॉलेज स्वामी शुकदेवानंद विधि महाविद्यालय में एलएलएम की छात्रा ने 24 अगस्त को एक वीडियो वायरल किया था जिसमें उसने चिन्मयानंद पर आरोप लगाया था कि उसने उसकी तथा कई अन्य लड़कियों की जिंदगी बर्बाद कर दी है। इसके साथ ही उसने अपने और अपने परिवार की जान को खतरा बताया था। विडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने चिन्मयानंद के खिलाफ अपहरण और जान से मारने की धमकी की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया था। उच्चतम न्यायालय के आदेश पर राज्य सरकार ने मामले की पड़ताल के लिये विशेष जांच दल गठित किया है, जो मामले की तफ्तीश कर रहा है।

Check Also

गाजियाबाद की महापौर ने नगर निगम के अधिकारियों पर 50 करोड़ रुपये की कर चोरी का आरोप लगाया

गाजियाबाद, 12 नवंबर (भाषा) गाजियाबाद की महापौर आशा शर्मा ने यहां नगर निगम के अधिकारियों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *