Monday , November 18 2019, 11:30 AM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / देश दुनिया / राष्ट्रीय / रक्षा मंत्री ने बताया तेजस की सवारी का अनुभव

रक्षा मंत्री ने बताया तेजस की सवारी का अनुभव

नई दिल्ली
रक्षा मंत्री ने जब लाइट तेजस में उड़ने का फैसला किया तो कई लोगों ने अपनी चिंता जाहिर की। कुछ ने कहा यह सिंगल इंजन का एयरक्राफ्ट है तो कुछ ने कहा कि हमारे यहां (स्वदेशी) बना है। रक्षामंत्री ने खुद ये बातें रक्षा मंत्रालय के अधिकारियों के साथ साझा कीं।

19 सितंबर को बेंगलुरु में लड़ाकू विमान में उड़ान भरकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इतिहास बनाया। पहली बार किसी रक्षा मंत्री ने स्वदेशी तेजस लड़ाकू विमान में उड़ान भरी। इससे पहले पूर्व रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने लड़ाकू विमान सुखोई में उड़ान भरी थी। जहां सुखोई दो इंजन वाला लड़ाकू विमान है वहीं तेजस एक इंजन का है। बुधवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह रक्षा मंत्रालय के डायरेक्टर और उससे ऊपर रैंक के अधिकारियों से मिले। यह एक अनौपचारिक चर्चा की तरह था जिसमें सबने अपने दिल की बात रक्षा मंत्री से पूछी। पहली बार रक्षा मंत्री इस तरह अधिकारियों से मिले हैं। बातों का सिलसिला करीब डेढ़ घंटे तक चला।

सूत्रों के मुताबिक रक्षा मंत्री से एक अधिकारी ने पूछा कि आप तेजस में गए तो क्या अब अर्जुन टैंक में भी जाने की योजना है? इस पर राजनाथ सिंह ने अर्जुन टैंक के बारे में तो कुछ नहीं कहा लेकिन तेजस में उड़ान को लेकर अपने अनुभव शेयर किए। उन्होंने कहा कि तेजस में उड़ान का अनुभव बहुत रोमांचकारी था साथ ही चैलेंज भी था। कई लोगों ने कहा कि क्या आप यह कर पाएंगे? कुछ ने कहा कि तेजस सिंगल इंजन का है (यानी रिस्क ज्यादा है), कुछ ने कहा कि यह यहीं बना है। राजनाथ सिंह ने कहा कि लोगों ने अपनी चिंता जाहिर की लेकिन मुझे चुनौतियों का सामना करने और उन्हें पूरा करने में मजा आता है। रक्षा मंत्री ने यह भी बताया कि जब आधे घंटे की उड़ान के बाद हम नीचे उतरे तो मैंने कहा बस इतना सा और क्यों नहीं किया।

रक्षा मंत्री ने अधिकारियों से कहा कि काम करते वक्त कभी-कभी गलतियां हो जाती हैं आप उसकी चिंता मत करिए और फैसले लेने में डरें नहीं। दिक्कत उससे है जब जानबूझकर गलती की जाती है। राजनाथ सिंह ने कहा कि मंत्रालय के सभी अधिकारी मंत्रालय के हाथ-पैर नहीं हैं बल्कि दिल और आत्मा हैं और हम साथ मिलकर अच्छा काम कर सकते हैं। रक्षा मंत्री ने भविष्य की चुनौतियों से निपटने के लिए आर्टिफिशल इंटेलिजेंस और रोबोटिक्स पर भी फोकस करने पर जोर दिया।

Check Also

राष्ट्रपति शासन पर दूसरी अर्जी देगी शिवसेना

मुंबई के फैसले के खिलाफ शिवसेना अब सुप्रीम कोर्ट में दूसरी याचिका दायर करेगी। इससे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *