Friday , November 15 2019, 5:18 AM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / देश दुनिया / राष्ट्रीय / रोड ऐक्सिडेंट: मौत के मामले में दिल्ली अव्वल

रोड ऐक्सिडेंट: मौत के मामले में दिल्ली अव्वल

दीपक दास, नई दिल्ली
सड़क हादसे को लेकर ट्रैफिक पुलिस के ताजा डेटा के मुताबिक, दिल्ली में मरने वालों की संख्या बढ़ी है, लेकिन अन्य महानगर- चेन्नै, कोलकाता और मुंबई में मौत का आंकड़ा घटा है। दिल्ली में 2018 में 1690 लोगों की सड़क हादसे में मौत हुई, जबकि 2017 में 1584 और 2016 में 1591 लोगों की मौत हुई थी।

दिल्ली में 2018 में 1690 लोगों की मौत
ट्रैफिक पुलिस के डेटा के मुताबिक, चेन्नै में 2018 में 1260 लोगों की दुर्घटना में मौत हुई, जबकि 2017 में 1299 लोगों की मौत हुई थी। कोलकाता में 2018 में 294 लोगों की मौत हुई, जबकि 2017 में 329 लोगों की मौत हुई थी। वहीं आर्थिक राजधानी मुंबई में 2017 में 490 लोगों की मौत हुई थी और 2018 में 475 लोगों की मौत हुई।

2018 में 17700 लोगों की मौत
इस रिपोर्ट पर गौर करें तो पटना, आगरा, सूरत, इलाहाबाद, जोधपुर, नासिक, राजकोट, भोपाल और थ्रिसुर जैसे छोटे शहरों में दुर्घटना में मरने वालों की संख्या बढ़ी है। 2017 में ऐसे शहरों में हादसे में मरने वालों की संख्या 17 हजार थी, जबकि 2018 में यह आंकड़ा बढ़कर 17,700 पर पहुंच गया।

छोटे शहरों में ज्यादा हादसे
रोड सेफ्टी एक्सपर्ट्स का कहना है कि महानगरों के मुकाबले छोटे शहरों में हादसे में मरने वालों की संख्या ज्यादा है। इसलिए यहां ट्रैफिक रूल्स को मजबूती के साथ लागू करने की जरूरत है। जानकारी के लिए बता दें कि पूरे देश में ट्रैफिक पुलिस की संख्या करीब 72 हजार है, जबकि रजिस्टर्ड गाड़ियों की संख्या 20 करोड़ के करीब है।

टेक्नॉलजी के इस्तेमाल पर जोर
इंटरनैशनल रोड फेडरेशन के पूर्व अध्यक्ष केके कपालिया का कहना है कि छोटे शहरों में टेक्नॉलजी की मदद से हादसों पर लगाम लगाया जा सकता है। हमें हादसों के कारणों के सतह तक पहुंचना होगा। हाल ही में नए मोटर वीइकल ऐक्ट को लागू किया गया है। इस ऐक्ट में टेक्नॉलजी के बेहतर इस्तेमाल पर बल दिया गया है।

Check Also

मुस्लिमों को 5 एकड़ जमीन, तसलीमा के सवाल

कोलकाता अपने बयानों को लेकर अक्‍सर विवादों में रहने वाली बांग्‍लादेशी लेखिका ने अयोध्‍या में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *