Wednesday , September 18 2019, 8:40 AM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / क्राइम / लखनऊः बिहार में शराब तस्करी के लिए ऑन डिमांड करते थे कार लूट

लखनऊः बिहार में शराब तस्करी के लिए ऑन डिमांड करते थे कार लूट


कार लूट कर चालक की हत्या करने के बाद शव इंदिरा नहर में फेंकने वाले गिरोह के दो अन्य सदस्यों को क्राइम ब्रांच और सरोजनीनगर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। गिरोह के एक सदस्य को पुलिस ने बुधवार को ही पकड़ लिया था। एसएसपी के मुताबिक पूछताछ में गिरोह के सदस्यों ने बताया कि में के कार व एसयूवी ऑन डिमांड लूटते थे। गिरोह के तीन अन्य सदस्यों की तलाश में पुलिस टीम जुटी हुई है।

एसएसपी कलानिधि नैथानी के मुताबिक 15 जुलाई को कमल, पंकज उर्फ छोटू, मोनू यादव और शरद सिंह ने पॉलिटेक्निक चौराहे से होंडा अमेज फैजाबाद के लिए बुक की थी। रास्ते में देवा रोड के पास उन लोगों ने सुनसान में बहाने से गाड़ी रुकवाई थी। चालक शुभम की हत्या करने शव को इंदिरा नहर में फेंक कर कार लूट के फरार हो गए थे। इस संबंध में सरोजनीनगर थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई गई थी।

एसएसपी ने बताया कि आरोपी सुलतानपुर के रास्ते कार से वाराणसी गए थे। वाराणसी से गाजीपुर जिले में पहुंचे थे। वहां पर आरोपियों ने मिथलेश पांडेय और मोनू यादव के चाचा मनोज यादव को कार दे दी थी। उन दोनों ने कार बलिया के खजुरी निवासी अतुल सिंह को दो लाख रुपये में बेच दी थी। अडवांस के तौर पर 60 हजार रुपये ले लिए थे। बाकी की रकम बाद में मिलनी थी।

4 अगस्त को वही कार खजुरी में सड़क हादसे में पकड़ी गई थी। अतुल सिंह इस घटना में पकड़ा गया था। वह शराब तस्करी के मामले में भी जेल जा चुका है। आरोपियों ने बताया कि अतुल व उसके गिरोह के लोग बिहार में शराब तस्करी का काम करते हैं। उन्हें तस्कारी के लिए गाड़ियां चाहिए होती हैं। जिससे कि पकड़े जाने का संदेह होने पर पुलिस से बचने के लिए कार छोड़ कर फरार हो सकें। पुलिस कार के संबंध में जानकारी जुटाए तो आरोपियों का कोई सुराग न लगे। पुलिस ने वारदात में प्रयुक्त की गई दो बाइकें भी बरामद की हैं।

पकड़े जाने के डर से दो आरोपी भाग गए महाराष्ट्र
कार का ऐक्सिडेंट होने के बाद मोनू यादव और शरद सिंह पाटिल डर गए थे। दोनों महाराष्ट्र भाग गए थे। एसएसपी के मुताबिक मैनेजमेंट से डिप्लोमा कर रहे बलिया निवासी देशराज सिंह उर्फ पंकज उर्फ छोटू, गाजीपुर निवासी कमल मिश्रा और पॉलिटेक्निक से डिप्लोमा कर रहा मिथलेश पांडेय भी महाराष्ट्र भागने की फिराक में थे। तीन लोग कोई बड़ी वारदात करके रुपये एकत्र करने की योजना तैयार कर रहे थे। इसी बीच पुलिस ने पंकज को बुधवार को पकड़ लिया। पुलिस ने उसकी निशानदेही पर उसके दो अन्य साथियों कमल व मिथलेश को भी गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के मुताबिक बलिया निवासी मोनू यादव, मनोज यादव और महाराष्ट्र निवासी शरद सिंह पटेल फरार हैं। तीनों की तलाश की जा रही है। एसएसपी ने बताया कि 26 अगस्त को पंकज सिंह, कमल मिश्रा और मोनू यादव ने बहराइच के लिए टीयूवी बुक करके लूट ली थी। चालक को मारपीट कर मृत समझ कर इंदिरा नहर में फेंक दिया था। चालक किसी तरह नहर से बाहर आया था। इस संबंध में चिनहट कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज है।

Check Also

कर्ज में डूबी मां, पहले बेटे और अब 1 लाख में बेटी को बेचा

Share this on WhatsApp नई दिल्ली कर्ज में डूबी मां ने एक लाख रुपये के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *