Monday , November 18 2019, 12:40 PM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / राजनीति / लखनऊ कैंट उपचुनाव: 15 उम्मीदवारों ने पेश की दावेदारी

लखनऊ कैंट उपचुनाव: 15 उम्मीदवारों ने पेश की दावेदारी

लखनऊ
उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की कैंट सीट पर हो रहे के लिए नामांकन सोमवार को संपन्न हो गया। आखिरी दिन के सुरेश चंद्र तिवारी, एसपी के मेजर आशीष चतुर्वेदी और लोकदल के शत्रोहन रावत समेत 13 उम्मीदवारों ने नामांकन किया। उपचुनाव के लिए अब 15 लोग पेश कर चुके हैं। नामांकन पत्रों की स्क्रूटनी की प्रक्रिया शुरू हो गई है। मंगलवार को स्क्रूटनी पूरी होने के बाद प्रत्याशियों की संख्या तय हो जाएगी। नामांकन करने वालों में बीजेपी से सुरेश चंद्र तिवारी, कांग्रेस से दिलप्रीत सिंह, बीएसपी से अरुण द्विवेदी, एसपी से मेजर आशीष चतुर्वेदी, लोकदल से शत्रोहन रावत, महिला स्वाभिमान पार्टी से गीता कुमारी, बहुजन अवाम पार्टी से नीलम सरोज, भारतीय संगठित पार्टी (एस) से सत्यपाल सिंह, लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी से सच्चिदानंद श्रीवास्तव, जनहित किसान पार्टी से दीपक चौरसिया, बहुजन मुक्ति पार्टी से सत्येंद्र कुमार, राष्ट्रीय सामना पक्ष से श्याम पाल और निर्दल विनोद कुमार, अनिरुद्ध श्रीवास्तव और निगमेंद्र मिश्रा शामिल हैं।

बीजेपी ने किया विकास के नाम पर जीत का दावा
बीजेपी प्रत्याशी सुरेश चंद्र तिवारी दोपहर बाद प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह, डेप्युटी सीएम दिनेश शर्मा, मेयर संयुक्ता भाटिया, मंत्री सुरेश खन्ना, महानगर प्रभारी मुकेश शर्मा और अन्नू मिश्रा के साथ कलेक्ट्रेट पहुंचे। बेहद सादे अंदाज में बीजेपी प्रत्याशी ने दो सेटों में नामांकन दाखिल किया। नामांकन के बाद लौटे प्रत्याशी सुरेश चंद्र तिवारी कुछ नहीं बोले, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने उपचुनाव में प्रदेश की सभी सीटों पर जीत का दावा किया। उन्होंने कहा कि हमीरपुर का उपचुनाव बीजेपी जीत चुकी है। बाकी सीटें भी बीजेपी विकास के नाम पर जीतेगी। दावा किया जनता पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ के सुशासन व कार्यों को देख रही है। बीजेपी कार्यकर्ताओं का परिश्रम रंग लाएगा और हम कैंट सीट भी जीतेंगे। वहीं डेप्युटी सीएम दिनेश शर्मा ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी का परचम विदेशों में भी लहरा रहा है। हम कैंट का उपचुनाव जीत रहे हैं।

एसपी ने सैनिकों के बूते कैंट सीट को अपना बताया
एसपी प्रत्याशी मेजर आशीष चतुर्वेदी ने दो बार दो-दो सेटों में नामांकन किया। पहली बार वे अपने प्रस्तावकों के साथ आए और नामांकन किया। दूसरी बार दोपहर करीब ढाई बजे एसपी के पूर्व विधायक अभिषेक मिश्रा, पूर्व विधायक रविदास मेहरोत्रा, समाजवादी व्यापारी सभा के राष्ट्रीय महासचिव पवन मनोचा, एसपी नगर अध्यक्ष सुशील दीक्षित, जिलाध्यक्ष अशोक यादव और एसपी नेता अनुराग भदौरिया, गौरव सिंह समेत कई नेताओं व कार्यकर्ताओं के साथ मेजर आशीष चतुर्वेदी कलेक्ट्रेट पहुंचे और नामांकन किया। उन्होंने कहा कि फौजी हूं, लिहाजा आधा चुनाव ऐसे ही जीत गया हूं। बाकी का आधा चुनाव कैंट की जनता जिताएगी। एसपी प्रत्याशी मेजर आशीष चतुर्वेदी ने बताया कि वे कैप्टन मनोज पांडे की 11जीआर रेजीमेंट में तैनात थे। उन्होंने 2006 वीआरएस लेकर समाज सेवा का रास्ता चुन लिया है।

हर मतदाता की आवाज बनेगी बीएसपी
बीएसपी प्रत्याशी अरुण द्विवेदी ने भी सोमवार को दो सेटों में नामांकन किया। वह दो सेट में पहले ही नामांकन कर चुके हैं। चारों सेटों में उनके प्रस्तावक अलग-अलग जाति व धर्म के रखे गए हैं। बीएसपी प्रदेश अध्यक्ष एचके गौतम के साथ बेहद सादगी भरे माहौल में वे नामांकन करने पहुंचे। उन्होंने कहा कि कैंट विधानसभा उप चुनाव में बीएसपी हर मतदाता की आवाज बनेगी। वहीं लोकदल से मैदान में उतरे प्रत्याशी शत्रोहन लाल रावत ने भी कैंट के मतदाताओं की समस्याओं को दूर करने और उनकी आवाज बनकर उनकी सेवा करने के लिए चुनाव लड़ने का फैसला किया है।

नामांकन करने वाले प्रत्याशियों की संपत्ति का ब्यौरा

बीजेपी प्रत्याशी सुरेश चंद्र तिवारी

नकदी-20,000, पत्नी के पास 15000 रुपये

बैंक में जमा-पांच लाख 89 हजार 688, पत्नी के पास 36310 रुपये

गाड़ी-टोयटा इटियास कार

चल संपत्ति-17 लाख 13 हजार 445 रुपये

अचल संपत्ति-एक करोड़ 20 लाख 45 हजार (जिसमें चार लाख की कीमत की कृषि योग्य जमीन और पारा में तीन भूखंड)

एसपी प्रत्याशी मेजर आशीष चतुर्वेदी

नकदी-22,500, पत्नी के पास 25000 रुपये

बैंक में जमा-चार लाख 2 हजार 583, पत्नी के पास 11 लाख 80 हजार रुपये, सात लाख 50 हजार के एफडीआर और चार लाख की पॉलिसी।

गाड़ी-दो लॅक्जरी कारें

चल संपत्ति-24 लाख 73 हजार 83 रुपये, पत्नी के पास 24 लाख नौ हजार 192 रुपये।

अचल संपत्ति-32 लाख 50 हजार, पत्नी के पास 32 लाख 50 हजार रुपये। (सुशांत गोल्फ सिटी में फ्लैट)

लोकदल प्रत्याशी शत्रोहन लाल रावत

नकदी-20 हजार, पत्नी के पास दस हजार

बैंक में जमा-एक लाख रुपये

बैंक का ऋण-40 हजार

चल संपत्ति-25 लाख

अचल संपत्ति-दो करोड़

Check Also

लॉ ऐंड ऑर्डर का मामला था बाबरी विध्वंस, इसलिए सीएम पद से दे दिया था इस्तीफा: कल्याण सिंह

लखनऊ अयोध्या में 1992 में विवादित ढांचा गिराए जाने के वक्त उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *