Friday , November 22 2019, 8:31 PM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / राज्य / हरियाणा / वर्षा जल का संचय कर गांव में बना दी मीठे पानी की झील

वर्षा जल का संचय कर गांव में बना दी मीठे पानी की झील

गुड़गांवगुड़गांव में औसतन 600 एमएम से ज्यादा बारिश होती है। फिर भी संचय नहीं होने से गिरते भूजल स्तर से स्थिति काफी विकट हो गई है। पालड़ी गांव में कुछ साल पहले तक पानी खारा होने से पीने योग्य नहीं था। लोगों को चर्म रोग व पेट की समस्या भी होने लगी थी। इसके समाधान के लिए गांव में जोहड़ की खुदाई की गई। ने साल्हावास नहर से भूमिगत पाइपलाइन बिछवाईं और नहर से जोहड़ को जोड़कर पानी से भर दिया गया। साथ ही बरसात के पानी को भी इसमें इकट्ठा किया गया। 3-4 वर्षों में हालात बदले और अब भूमिगत जलस्तर बढ़ गया है व पानी पीने योग्य मीठा हो गया। जल संचय के लिए कुछ और भी सुझाव हैं, जिन्हें अपनाने के लिए सभी को आगे आना होगा।

सूखे हैंडपंप से जल संरक्षण
पूर्व भू-गर्भ शास्त्री शीशराम सहरावत का कहना है कि धरती एक गुल्लक की तरह है, जब धरती से पानी निकालते हैं तो जरूरी है कि उसमें पानी डालें भी। शहर में लोगों ने घरों में हैंडपंप लगवा रखे हैं। ग्राउंड वॉटर लेवल नीचे होने के कारण जो हैंडपंप पानी देना बंद कर चुके हैं, उनमें बारिश के पानी को छत से पाइप के सहारे हैंडपंप में डालकर जल संरक्षण किया जा सकता है। इसमें केवल पाइप खरीदने में पैसा खर्च होगा।

बना सकते है सोख पिट
सहरावत ने बताया कि बारिश का पानी जमा करने के लिए सोख पिट अच्छा साधन है। 40, 50 गज या इससे अधिक भूमि पर बने मकानों में रहने वाले लोग घर के पास खाली पड़ी जगह या ग्रीन बेल्ट में 3 से 5 फुट गहरा गड्ढा खोदकर जरूरत के हिसाब से बारीक और मोटी रोड़ियां डाल दें। रोड़ियों पर मिट्टी डालकर उसे सीमेंट के ढक्कन से ढंक दें, ताकि पाइप के सहारे घर की छतों व आसपास का पानी आसानी से गड्ढे में पहुंच सके। इस तरकीब को पड़ोसी मिलकर भी कर सकते हैं।

छेद वाला पाइप लगवाएं
उन्होंने बताया कि छोटे घरों में रहने वाले लोग बरामदे या आसपास खाली जगह में इंजेक्शन बेल लगवा सकते है। इसमें ज्यादा खर्च नहीं आता है। जमीन में 40-50 फुट गहराई तक पाइप डालने के लिए होल करा लें। इसमें छेद वाला प्लास्टिक पाइप डलवा दें। बारिश होने के दौरान छत पर इकट्ठा पानी इसमें डाल दें या फिर छत से पानी निकासी को लगे पाइप को इसमें जोड़ दें।

दूसरे कामों में इस्तेमाल करें बारिश का पानी
ग्राउंड वॉटर सेल अधिकारी वी. एस. लांबा का कहना है कि बारिश में छत पर इकट्ठा होने वाले पानी को घर के बरामदे में सीमेंटेड टैंक बनवाकर या ड्रम में इकट्ठा कर सकते हैं। इसका उपयोग कपड़े धोने, टॉइलट, पेड़ों में डालने या घर की सफाई में किया जा सकता है। छोटे मकानों के लिए यह तरीका काफी उपयुक्त है। जरूरी है कि मॉनसून के दौरान छत अच्छी तरह से साफ रखें। छत पर जंग लगी लोहे की वस्तुएं नहीं रखें। बारिश के पानी का 30 दिन के बारिश के सीजन में पानी इकट्ठा कर 2 महीने का काम चलाया जा सकता है।

Check Also

नाबालिग चचेरी बहन को रेप करके मारा था, मिली उम्रकैद की सजा

गुड़गांव अपनी नाबालिग चचेरी बहन से बलात्कार कर उसे मार देनेवाले शख्स को गुड़गांव कोर्ट …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *