Thursday , November 21 2019, 6:50 PM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / राज्य / जम्मू-कश्मीर / विभाजन के बाद लद्दाख और जम्मू-कश्मीर में कुछ यूं बंटेंगी संपत्तियां

विभाजन के बाद लद्दाख और जम्मू-कश्मीर में कुछ यूं बंटेंगी संपत्तियां

श्रीनगर
ने मंगलवार को और के दो नवगठित केंद्र शासित प्रदेशों के बीच संपत्तियों के विभाजन की निगरानी के लिए तीन सदस्यीय सलाहकार समिति की घोषणा की। लद्दाख और जम्मू-कश्मीर औपचारिक रूप से 31 अक्टूबर, 2019 को अस्तित्व में आ जाएंगे। गृह मंत्रालय (एमएचए) द्वारा जारी एक अधिसूचना में कहा गया है कि तीन सदस्यीय सलाहकार समिति में पूर्व रक्षा सचिव संजय मित्रा, पूर्व आईएएस अधिकारी अरुण गोयल और भारतीय नागरिक लेखा सेवा (आईसीएएस) के पूर्व अधिकारी गिरिराज प्रसाद शामिल होंगे।

दो केंद्र शासित प्रदेशों के बीच संपत्तियों का बंटवारा 31 अक्टूबर को अस्तित्व में आ जाएगा। इसमें व्यापक वित्तीय और प्रशासनिक कार्य शामिल होंगे। संयोग से देश के प्रथम गृहमंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती भी इसी दिन होगी। एक शीर्ष नौकरशाह ने कहा, ‘प्रमुख प्रशासनिक निर्णय में लद्दाख केंद्र शासित प्रदेश के लिए राज्य की विभिन्न मौजूदा सेवाओं से नौकरशाहों का आवंटन करना शामिल होगा। राज्य सरकार के प्रत्येक विभाग को लद्दाख केंद्रशासित प्रदेश के लिए अधिकारियों को आवंटित करते समय विचार करना होगा। उस क्षेत्र से बहुत कम अधिकारी हैं, जो वर्तमान में राज्य सरकार की सेवा में हैं।’

अधिकारियों के पास स्वैच्छिक रूप से विकल्प चुनने की संभावना नहीं
उन्होंने कहा, ‘इसलिए घाटी और जम्मू क्षेत्र में राज्य व केंद्र सरकार की सेवाओं में शामिल अधिकारियों के लद्दाख केंद्र शासित प्रदेश की सेवा का स्वैच्छिक रूप से विकल्प चुनने की संभावना नहीं है। इस समस्या को हल करने के लिए राज्य के अधिकारियों को लद्दाख केंद्र शासित प्रदेश के लिए तीन साल की प्रतिनियुक्ति पर भेजा जाएगा। उन्हें राज्य के वर्तमान में केंद्र और राज्य सरकार के अधिकारियों में लाया जाएगा। लद्दाख केंद्र शासित प्रदेश काडर धीरे-धीरे विकसित होगा। प्रतिनियुक्ति को बाद के चरण में बंद किया जा सकता है।’

अधिकारी ने कहा कि संपत्तियों के विभाजन में हथियारों, पुलिस बल के लिए गोला-बारूद, वाहनों का विभाजन और बुनियादी ढांचा व दूसरे संसाधन का आनुपातिक विभाजन शामिल है। उन्होंने कहा, ‘इसी तरह से अन्य सभी राज्य विभागों की संपत्ति का विभाजन जैसे कि राजस्व, वित्त, बिजली विकास, स्वास्थ्य देखभाल, शिक्षा, सामाजिक कल्याण, ग्रामीण विकास, सार्वजनिक काम और पर्यटन का विभाजन आबादी के अनुपात में होगा।’

इस नौकरशाह ने कहा, ‘कानूनी रूप से केंद्र शासित प्रदेशों के अस्तित्व में आने से पहले ही यह कवायद हो चुकी होनी चाहिए। कार्य शुरू हो चुका है और सलाहकार समिति की आखिरी बैठक के बाद संपत्तियों का विभाजन औपचारिक रूप से हो जाएगा।’

Check Also

अखनूर में एलओसी के समीप संदिग्ध आईईडी विस्फोट में एक जवान शहीद

जम्मू, 17 नवंबर (भाषा) जम्मू के अखनूर सेक्टर में नियंत्रण रेखा के समीप रविवार को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *