Friday , November 15 2019, 5:33 AM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / राज्य / मध्य प्रदेश / वीएचपी को उम्मीद, श्रीराम जन्मभूमि न्यास के डिजाइन के मुताबिक ही होगा मंदिर निर्माण

वीएचपी को उम्मीद, श्रीराम जन्मभूमि न्यास के डिजाइन के मुताबिक ही होगा मंदिर निर्माण

इंदौर/अहमदाबाद
अयोध्या मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हुए विश्व हिन्दू परिषद (वीएचपी) के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष ने उम्मीद जताई कि कानूनी आदेश पर बनने वाला ट्रस्ट रामजन्मभूमि न्यास के डिजाइन के मुताबिक भव्य मंदिर का निर्माण करेगा। उन्होंने बाद में गुजरात के अहमदाबाद में संवाददाताओं से कहा कि उन्हें विश्वास है कि 2024 तक उस स्थान पर एक भव्य मंदिर का निर्माण हो जाएगा। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली उच्चतम न्यायालय की पांच सदस्यीय पीठ ने शनिवार को फैसला दिया कि अयोध्या में रामजन्मभूमि से संबंधित स्थान पर मंदिर निर्माण के लिये तीन महीने के भीतर एक ट्रस्ट गठित किया जाए।

गौरतलब है कि वीएचपी ने कार्यशाला में 1990 में अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए पत्थरों को तराशना शुरू किया था। राम जन्मभूमि न्यास विश्व हिन्दू परिषद के सदस्यों द्वारा स्थापित ट्रस्ट है। इस ट्रस्ट की स्थापना अयोध्या में राम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण के उद्देश्य से 18 दिसंबर 1985 को की गई थी। कोकजे ने कहा, ‘अयोध्या मामले में उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद अब किसी भी पक्ष की हार या जीत का सवाल नहीं है, क्योंकि अदालत ने संतुलित फैसला सुनाते हुए सदियों पुराने मसले को अच्छी तरह हल कर दिया है। यह फैसला स्वागतयोग्य है, क्योंकि इसके तहत न्याय किया गया है।’

2024 तक हो जाएगा मंदिर निर्माण: कोकजे
कोकजे ने कहा, ‘इस फैसले की रोशनी में हम समझ रहे हैं कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए जरूरी फैसले शीर्ष अदालत के आदेश पर सरकार द्वारा गठित किए जाने वाले ट्रस्ट की निगरानी में ही होने हैं। हालांकि, हम उम्मीद कर रहे हैं कि राम जन्मभूमि पर उसी डिजाइन के मुताबिक भव्य मंदिर का निर्माण किया जाएगा, जो राम जन्मभूमि न्यास ने पहले से तैयार कर रखा है। इस डिजाइन को अपनाया जाना (प्रस्तावित) ट्रस्ट के लिए सुविधाजनक भी होगा।’ उन्होंने अहमदाबाद में संवाददाताओं से कहा, ‘अब जैसा कि अदालत ने अपना फैसला दिया है, उसके अनुसार अयोध्या में उसी स्थान पर एक भव्य राममंदिर बन जाएगा। जिस तरह जमीन हासिल करना एक चुनौती थी उसी प्रकार मंदिर बनाना और उसे चलाना चुनौती होगी। यह भारत का एक महत्वपूर्ण तीर्थाटन स्थल होगा। मेरा विश्वास है कि मंदिर 2024 तक उस स्थान पर भव्य मंदिर का निर्माण हो जाएगा।’

‘ट्रस्ट में होंगे सिर्फ रामभक्त’
एक प्रश्न के उत्तर में कोकजे ने कहा, ‘इस समय ट्रस्ट के कामकाज के बारे में आशंका प्रकट करने का कोई कारण नहीं है। आज हम क्यों यह मानकर चलें कि ट्रस्ट हमारे विरुद्ध जाएगा? मुझे पक्का यकीन है कि ट्रस्ट मंदिर के निर्माण के लिए रामजन्मभूमि न्यास के साथ काम करेगा।’ कोकजे ने कहा, ‘ इसके अलावा, यह मानने का कोई कारण नहीं है कि मंदिर के विरुद्ध रहने वाले लोग ट्रस्टी के रूप में शामिल किए जाएंगे। मैं मानता हूं कि उसमें केवल रामभक्त होंगे।’ जब उनसे इस बारे में पूछा गया कि राजनीतिक नेता इस फैसले का श्रेय लेने का प्रयास करेंगे तो उस पर वीएचपी की क्या राय है, इस पर उन्होंने कहा कि लोग सभी चीज समझते हैं।

आपको बता दें कि इससे पहले इंदौर में काशी और मथुरा के विवादित धार्मिक स्थलों को लेकर वीएचपी की आगामी योजना के बारे में पूछे जाने पर कोकजे ने कहा था, ‘फिलहाल हम अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण पर पूरा ध्यान केंद्रित कर रहे हैं। बाकी विषयों पर समाज के रुख को राम मंदिर निर्माण के बाद देखा जाएगा।’ मध्यप्रदेश और राजस्थान के उच्च न्यायालयों के पूर्व न्यायाधीश ने कहा, ‘राम जन्मभूमि न्यास ने मंदिर निर्माण के लिये काफी तैयारी कर रखी है। मंदिर का डिजाइन तैयार है और इसके मुताबिक बड़े पैमाने पर पत्थर भी तराश लिए गए हैं।’

Check Also

फैसले से सिद्ध हुआ कि भगवान राम का जन्म अयोध्या में हुआ था: स्वरूपानंद सरस्वती

जबलपुर शंकराचार्य स्वामी ने शनिवार को अयोध्या मामले पर के निर्णय का स्वागत करते हुए …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *