Friday , November 22 2019, 12:40 AM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / राज्य / हरियाणा / सरस्वती का अस्तित्व तलाशेंगे लखनऊ जीएसआई के वैज्ञानिक

सरस्वती का अस्तित्व तलाशेंगे लखनऊ जीएसआई के वैज्ञानिक

लखनऊ
हरियाणा सरकार ने विलुप्त हो गई सरस्वती नदी के बहाव का पता लगाने का जिम्मा लखनऊ स्थित भारतीय सर्वेक्षण (जीएसआईआई) को सौंपा है। के भूवैज्ञानिक के चित्रों से नदियों की जलधाराओं के पुराने निशान खोजने का प्रयास करेंगे। नदी के गुजरने वाले रास्तों पर पड़ने वाले कुंओं तथा अन्य उपकरणों की मदद से नदी को खोजा जाएगा। पहले से नदी को खोजने के लिए गठित बद्री हेरिटेज बोर्ड टीम की मदद करेगी।

गौरतलब है कि विलुप्त हुई सरस्वती नदी को जीवित करने के लिए हरियाणा और राजस्थान की सरकारें काफी समय से काम कर रही हैं, लेकिन कुछ कठिनाइयां आने के चलते भूवैज्ञानिकों की मदद ली जाएगी। संस्थान के वैज्ञानिक छह महीने के भीतर हरियाणा सरकार को अपनी रिपोर्ट देंगे। इसके बाद ही सरस्वती नदी को दोबारा से अस्तिव में लाने के लिए काम शुरू होगा।

नए महान‍िदेशक बने डॉ द‍िनेश गुप्‍ता
भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण का 47वां महानिदेशक डॉ. दिनेश गुप्ता को बनाया गया है। डॉ. गुप्ता संघ लोक सेवा आयोग के 1983 बैच के अधिकारी हैं। वे वर्ष 1985 में जीएसआई में शामिल हुए। इससे पहले एन. कुटुम्ब राव महानिदेशक के पद पर तैनात थे। पदभार ग्रहण करने पर डॉ. दिनेश गुप्ता ने कहा कि देश की खनिज अन्वेषण गतिविधियों में तेजी लाना उनका लक्ष्य होगा, जिससे भारत सरकार को नीलामी के लिए और अधिक खनिज ब्लॉक उपलब्ध हो सके। इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए जीएसआई द्वारा पूरे देश में हवाई, भूभौतिकीय सर्वेक्षण परियोजना पहले ही आरंभ कर दी गई है।

Check Also

दुष्यंत ने केन्द्र को लिखा पत्र: जलवायु परिवर्तन को स्कूल पाठ्यक्रम का हिस्सा बनाया जाये

चंडीगढ़, 16 नवम्बर (भाषा) हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने केन्द्र सरकार को पत्र लिखकर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *