Saturday , December 7 2019, 9:01 AM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / राज्य / उत्तर प्रदेश / सौभाग्य योजना से उत्तर प्रदेश के 12 लाख परिवारों तक पहुंचेगी बिजली

सौभाग्य योजना से उत्तर प्रदेश के 12 लाख परिवारों तक पहुंचेगी बिजली

लखनऊ
के 12 लाख ऐसे परिवार, जिनके घरों में अभी तक बिजली नहीं पहुंच पाई है। उन परिवारों को केंद्र सरकार की के तहत मुफ्त में बिजली कनेक्शन मिल सकेगा। केंद्रीय बिजली मंत्रालय ने उन सभी 12 लाख परिवारों को सौभाग्य योजना के तहत कनेक्शन देने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है, जो प्रदेश सरकार की तरफ से भेजा गया था।

अविद्युतीकृत हर परिवार तक बिजली पहुंचाने के लिए केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई सौभाग्य योजना 31 मार्च को खत्म हो गई थी, तब तक जिन परिवारों ने इस योजना के तहत कनेक्शन लेने की इच्छा जाहिर की थी। उन्हें कनेक्शन देने का काम किया जा रहा था। लेकिन इसके बाद भी प्रदेश में 12 लाख ऐसे परिवार बचे थे, जिनको कनेक्शन नहीं मिल पाया था। इसलिए राज्य सरकार की तरफ से इन परिवारों को सौभाग्य योजना के अंतर्गत कनेक्शन देने के लिए राज्य सरकार ने प्रस्ताव केंद्र को भेजा था।

पढ़ेंः

1.08 करोड़ परिवारों को मिला था कनेक्शनपावर कॉरपोरेशन के अधिकारियों के मुताबिक सौभाग्य योजना के तहत अप्रैल, 2017 से 31 जुलाई तक पूरे प्रदेश में 1.08 करोड़ कनेक्शन दिए जा चुके हैं। इसमें सबसे ज्यादा बिजली कनेक्शन बीपीएल परिवारों को दिए गए हैं। एक अधिकारी के मुताबिक सौभाग्य योजना के तहत यूपी में करीब 98 लाख बीपीएल परिवारों को मुफ्त कनेक्शन दिया जा चुका है।

सौभाग्य योजना के तहत कनेक्शन दिए जाने का दायरा बढ़ाने के साथ-साथ केंद्रीय बिजली मंत्रालय ने कुछ शर्तें भी रखी हैं। इसके तहत सौभाग्य योजना के तहत मुफ्त कनेक्शन उन्हीं परिवारों को दिया जाएगा, जिन परिवारों ने पहले तो कनेक्शन लेने से मना किया। लेकिन 31 मार्च, 2019 से पहले उन परिवारों ने कनेक्शन लेने की इच्छा जाहिर की थी। योजना का लाभ उन उपभोक्ताओं को नहीं मिलेगा, जिनका बिल बकाया होने की वजह से कनेक्शन कट चुका है। इन परिवारों को 31 दिसंबर तक कनेक्शन देना होगा।

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि हर घर को प्रकाशित और ऊर्जित करना मोदी-योगी सरकार का लक्ष्य है। पहले चरण में इच्छित उपभोक्ताओं को कनेक्शन दिए जा चुके हैं। प्रदेश सरकार के प्रस्ताव पर बचे 12 लाख परिवारों को कनेक्शन के लिए केन्द्र ने मंजूरी दे दी है।

Check Also

अयोध्‍या मसले पर पुनर्विचार याचिका चाहते हैं 99 फीसदी मुस्लिम: रहमानी

लखनऊदेश में मुसलमानों के सबसे बड़े संगठन का मानना है कि बाबरी मस्जिद पर उच्‍चतम …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *