Tuesday , January 21 2020, 10:02 PM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / राज्य / पश्चिम बंगाल / 370: ममता बनर्जी का मोदी सरकार पर वार- 'कश्मीर जाना चाहती हूं लेकिन नहीं जा सकती'

370: ममता बनर्जी का मोदी सरकार पर वार- 'कश्मीर जाना चाहती हूं लेकिन नहीं जा सकती'

कोलकाता
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सीएए, एनआरसी और जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने के मुद्दे पर केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को निशाने पर लिया है। हमारे सहयोगी समाचार चैनल टाइम्स नाउ को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में ममता ने ने हाल ही में पीएम मोदी के बंगाल दौरे को लेकर भी प्रतिक्रिया दी। ममता ने कहा कि अपनी यात्रा के दौरान स्वामी विवेकानंद को श्रद्धांजलि देने पर केंद्रित रहने की बजाए पीएम ने सीएए और एनआरसी की चर्चा की।

बेलूर दौरे को बताया राजनीतिक प्रॉपेगैंडा
ममता बनर्जी ने इंटरव्यू के दौरान पीएम मोदी के बेलूर मठ दौरा का जिक्र करते हुए कहा, ‘यह एक निजी यात्रा थी। लेकिन हकीकत में यह उनका राजनीतिक प्रॉपेगैंडा था। वे पूरी तरह से उनके विचार थे। अगर मेरे पास कुछ कहने का अधिकार है तो उनके पास भी कुछ कहने का हक है। स्वामी विवेकानंद को श्रद्धांजलि देने की बजाए वह सीएए और एनआरसी पर बोलते रहे।’

पढ़ें:

‘बीजेपी शासित असम में सीएए क्यों नहीं’
सीएए पर मोदी सरकार को घेरते हुए ममता ने कहा, ‘मैं इस बात से सहमत हूं कि सीएए किसी की नागरिकता नहीं छीन सकता, क्योंकि वे पहले से ही इस देश के नागरिक हैं। उनके पास आधार कार्ड, पैन कार्ड, इतनी सारी चीजें हैं। लेकिन अगर आप लोगों को गुमराह कर रहे हैं तो मेरा एक सवाल है- अगर यह बहुत अच्छा है तो इसे असम में लागू क्यों नहीं किया जा रहा है, जो बीजेपी शासित राज्य है? इस विशेष समूह को नागरिकता मिलेगी या उस विशेष समूह को नागरिकता नहीं मिलेगी, ये उनकी चॉइस है।’

पढ़ें:

‘अपनी मां का बर्थ सर्टिफिकेट नहीं दे सकती’
ममता ने आगे कहा, ‘अगर वे मुझसे पूछते हैं कि मेरी मां का जन्म प्रमाण पत्र कहां है, तो क्या मैं इसे दे सकती हूं? जब मैं राज्य की सत्ता में आई तो अस्पताल में जन्म लेने वाले बच्चों की दर केवल 65 प्रतिशत थी। अब यह 90 प्रतिशत है, लेकिन तब बच्चे केवल मिट्टी के घरों में पैदा हुआ करते थे। इसलिए मैं अपनी मां का बर्थ सर्टिफिकेट नहीं दे सकती।’

‘कश्मीर नहीं जा सकती क्योंकि खास कुर्सी से संबंध’
जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को हटाने के मोदी सरकार के कदम पर सवाल उठाते हुए ममता ने कहा, ‘कश्मीरियों को विश्वास में क्यों नहीं लिया गया? कश्मीर मुद्दे पर सभी राजनीतिक दलों से विचार-विमर्श क्यों नहीं किया गया। मैं कश्मीर जाना चाहती हूं, मैं अपने कश्मीरी भाइयों और बहनों से मिलना चाहती हूं। मैंने कोई राजनीति नहीं की लेकिन मैं वहां नहीं जा सकती क्योंकि मैं एक विशेष कुर्सी से संबंधित हूं।’

Check Also

कोलकाताः सीएए के खिलाफ महिलाओं के प्रोटेस्ट में हिस्सा लेने पहुंचे कांग्रेस नेता पी चिदंबरम

कोलकाता दिल्ली के शाहीन बाग की तर्ज पर कोलकाता के पार्क सर्कस में नागरिकता संशोधन …

Leave a Reply