Sunday , January 19 2020, 4:54 AM
ब्रेकिंग न्यूज
Hindi News / राज्य / मध्य प्रदेश / MP: कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डांग ने किया CAA का समर्थन- 'NRC से अलग देखें'

MP: कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डांग ने किया CAA का समर्थन- 'NRC से अलग देखें'

मंदसौर
नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से लेकर महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा लोकतंत्र के खिलाफ बता चुकी हैं। लेकिन उन्हीं की पार्टी के एक विधायक इससे इत्तेफाक नहीं रखते हैं। मध्य प्रदेश के कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डांग ने सीएए का समर्थन किया है। उन्होंने कहा है कि इसे राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) से अलग देखे जाने की जरूरत है।

‘प्रताड़ित यहां सुविधाएं पाएं तो बुराई नहीं’
मंदसौर जिले की सुवासरा सीट से विधायक डांग ने मीडिया से बातचीत में कहा, ‘अगर हम सीएए और एनआरसी को अलग-अलग देखते हैं तो इसमें कोई बुराई नहीं है कि पाकिस्तान, बांग्लादेश या अफगानिस्तान में परेशान शख्स यहां सुविधाएं पाता है। लेकिन इस बात पर भी विचार करना चाहिए कि जो लोग पीढ़ियों से भारत में रह रहे हैं और यहां पले-बढ़े हैं, उनसे एनआरसी के तहत दस्तावेज देने को कहा जा रहा है।’

पढ़ें:

CAA-NRC को जोड़कर देख रहे हैं लोग: डांग
कांग्रेस विधायक ने साफ किया, ‘पूरी राजनीति इस मुद्दे के इर्द-गिर्द घूम रही है कि लोग सीएए और एनआरसी को जोड़कर देख रहे हैं।’ कांग्रेस एमएलए डांग ने साथ ही कहा कि उनके अलावा ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 के प्रावधानों को हटाने के केंद्र सरकार के कदम का समर्थन किया था।

पढ़ें:

कांग्रेस ने की है वापस लेने की मांग
कांग्रेस विधायक का बयान ऐसे समय में आया है जब दिल्ली में हुई बैठक के दौरान कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) ने मांग की है कि सीएए को वापस लिया जाना चाहिए और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) की प्रक्रिया पर रोक लगनी चाहिए।

नागरिकता संशोधन कानून 2019 के तहत हिंदू, सिख, जैन, पारसी, बौद्ध और ईसाई समुदाय के उन लोगों को नागरिकता देने का प्रावधान है, जो धार्मिक प्रताड़ना की वजह से 31 दिसंबर 2014 या उससे पहले पाकिस्तान, अफगानिस्तान या बांग्लादेश छोड़कर भारत में शरणार्थी के रूप में रह रहे हैं।

Check Also

भील जनजाति पर आपत्तिजनक टिप्पणियां: पश्नपत्र निर्माता, जांचकर्ता से जवाब-तलब

इंदौर, 13 जनवरी (भाषा) मध्य प्रदेश की राज्य प्रशासनिक सेवा की प्रारंभिक परीक्षा के प्रश्नपत्र …

Leave a Reply